न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

यूपी में सपा-बसपा सीटों का बंटवाराः तय किया कौन-कहां से लड़ेगा चुनाव

बसपा-38, सपा-37 सीटों पर लड़ेगी चुनाव-सपा ने एक सीट आरएलडी को दी

887

Lucknow: आनेवाले लोकसभा चुनाव के लिए सपा और बसपा में गठबंधन तो काफी पहले हो चुका था. अब दोनों पार्टियों ने लोकसभा चुनावों के लिए यह भी तय कर लिया है कि कौन-कौन सी सीट पर चुनाव लड़ेगा. हालांकि, दोनों ही दलों ने 38-38 सीटों पर चुनाव लड़ना तय किया था. लेकिन अखिलेश यादव ने अपने कोटे से एक सीट आरएलडी को दे दी है. अब सीटों की पहचान कर ली गयी है कि कौन-कौन सी सीटों पर सपा और कौन-सी सीटों पर बसपा अपने उम्मीदवार उतारेगी.

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती द्वारा हस्ताक्षरित एक आधिकारिक बयान में 80 लोकसभा सीटों में से 37 सीटें सपा को जबकि 38 सीटें बसपा को दी गयी हैं. पश्चिम यूपी की ज्यादातर सीटों पर जहां बसपा चुनावी मैदान में उतरेगी. वहीं, रुहेलखंड और मैनपुरी कन्नौज आसपास की सीटें सपा के खाते में गई है. हालांकि दोनों पार्टियों को हर मंडल की सीटें मिली हैं.

सपा के कोटे की 37 सीटें

सपा के कोटे में आयी 37 सीटों में कैराना, मुरादाबाद, संभल, रामपुर, मैनपुरी, फिरोजाबाद, बदायूं, बरेली, लखनऊ, इटावा, इलाहाबाद, कौशाम्बी, फूलपुर, फैजाबाद, गोण्डा, गोरखपुर, आजमगढ़, वाराणसी और मिर्जापुर शामिल हैं.

बसपा इन सीटों पर लड़ेगी चुनाव


बसपा जिन सीटों पर चुनाव लड़ेगी उनमें सहारनपुर, बिजनौर, अलीगढ़, आगरा, फतेहपुर सीकरी, सीतापुर, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, बस्ती, जौनपुर, भदोही और देवरिया शामिल हैं.

गठबंधन पर मुलायम नाखुश

सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने बसपा के साथ सपा के गठबंधन पर एकबार फिर नाराजगी जाहिर की. मुलायम ने सपा मुख्यालय पर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा ‘‘अब उन्होंने (अखिलेश यादव) मायावती के साथ आधी सीटों पर गठबंधन किया है. आधी सीटें देने का आधार क्या है. अब हमारे पास केवल आधी सीटें रह गयी हैं. हमारी पार्टी कहीं अधिक दमदार है.’’ उन्होंने कहा ‘हम सशक्त हैं लेकिन हमारे लोग पार्टी को कमजोर कर रहे हैं. हमने कितनी सशक्त पार्टी बनायी थी और ‘मैं मुख्यमंत्री बना और रक्षा मंत्री भी बना.’

इसे भी पढ़ेंः जवानों की सुरक्षा को लेकर मोदी सरकार का फैसलाः श्रीनगर आने-जाने के लिए मिलेगी प्लेन की सुविधा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: