Bihar

वाहनों में ओवरलोडिंग, लाइसेंस व फिटनेस जांच के लिए राज्यभर में विशेष अभियान, दर्जनों वाहन जब्त, 46 पर जुर्माना

Patna : वाहनों में ओवरलोडिंग, ड्राइविंग लाइसेंस तथा व्यावसायिक वाहनों के फिटनेस जांच के लिए शनिवार को सभी जिलों में विशेष जांच अभियान चलाया गया. इस दौरान बिना लाइसेंस ड्राइविंग, ओवरलोडिंग तथा फिटनेस प्रमाण पत्र अपडेट नहीं पाए जाने वाले वाहनों पर कार्रवाई की गयी. यह अभियान सभी जिलों में जिला परिवहन पदाधिकारी, एमवीआई और ईएसआई ने संयुक्त रूप से चलाया गया.

परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि अभियान के तहत ट्रक सहित कुल 700 वाहनों के फिटनेस जांच प्रमाण पत्र की जांच की गयी. जांच में 46 ट्रकों का फिटनेस फेल पाया गया. ऐसे वाहनों जुर्माना लगाया गया तथा 27 ट्रकों को जब्त की गयी.

इसे भी पढ़ें :Big Breaking: एडीजे उत्तम आनंद की मौत की सीबीआई जांच की अनुशंसा

advt

परिवहन सचिव ने सभी व्यावसायिक वाहन मालिकों से अपील की है कि वे अपने ट्रकों एवं अन्य व्यावसायिक वाहनों की फिटनेस जांच करा लें एवं दुरुस्त होने के बाद ही चलायें.

फिटनेस फेल वाहनों को चलाना न सिर्फ मोटर वाहन अधिनियम का उल्लंघन है, बल्कि सड़क सुरक्षा के लिहाज से खतरनाक है. आये दिन इससे सड़क दुर्घटना होती है.

इसे भी पढ़ें :तीरंदाजी में विश्व चैंपियन और ओलंपिक के लिए चयनित दीपिका को राज्य सरकार देगी 50 लाख

जिला परिवहन कार्यालय द्वारा कॉमर्शियल और निजी वाहनों के लिए अलग-अलग अवधि के लिए फिटनेस प्रमाण पत्र जारी किया जाता है. नई गाड़ियों के पंजीकरण के समय ही उन्हें प्रमाणपत्र जारी कर दिया जाता है.

8 साल तक नये कॉमर्शियन वाहनों को यह दो साल के लिये जारी किया जाता है. वहीं 8 साल से पुराने व्यावसायिक वाहनों को हर साल जांच करवाकर फिटनेस प्रमाण पत्र लेना जरूरी होता है.

इसे भी पढ़ें :बारिश का कहर: 24 घंटों में चार जिलों में 8 की मौत, रांची में पुल टूटा, स्वर्णरेखा में बहा युवक

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: