न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्पेशल ब्रांच ने किया पुलिस मुख्यालय को किया अलर्ट – सोनू इमरोज की हत्या के बाद बढ़ी गैंगवार की आशंका  

रांची में गैंगवार को लेकर स्पेशल ब्रांच पहले ही आगाह कर चुकी है

102

Ranchi : सोनू इमरोज की हत्या के बाद राजधानी रांची में गैंगवार की आशंका तेज हो गई है. राजधानी संदीप थापा, बिट्टू मिश्रा, सुजीत सिन्हा,गेंदा सिंह, लव कुश शर्मा, कुणाल सिंह जैसे कुछ अन्य अपराधी हावी होते जा रहे हैं. दरअसल रांची में गैंगवार को लेकर स्पेशल ब्रांच पहले ही आगाह कर चुकी है. स्पेशल ब्रांच के मुताबिक, राजधानी में कई ऐसी कीमती जमीनें हैं, जिसके डील की पीछे   शहर के बड़े अपराधियों का हाथ है. ये सभी अलग-अलग जमीन कारोबारियों के पक्ष में काम कर रहे हैं. जिससे आशंका जतायी जा रही है कि इससे शहर में गैंगवार हो सकता है. लेकिन अब जबकि सोनू इमरोज को दिनदहाड़े गोलियों से छलनी कर दिया गया था, तो इससे गैंगवार की आशंका तेज हो गई है.

इसे भी पढ़ें – मिलावटी मिठाईयों से पटे हैं बाजार, संभल कर करें खरीददारी

स्पेशल ब्रांच पहले ही कर चुकी है आगाह

रांची में जमीन के कारोबार को लेकर अक्सर दो पक्षों या फिर अपराधियों के बीच भी टकराव की स्थिती देखने को मिल ही जाती है. लेकिन अब जबकि सोनू इमरोड की हत्या के बाद शहर का माहौल बिगड़ा है तो इससे पुलिस महकमा भी काफी चौकन्ना हो गया है. स्पेशल ब्रांच की सूचना के बाद पुलिस मुख्यालय ने सीआईडी को जमीन कारोबारियों और उनके संरक्षण के लिए काम करनेवाले कुख्यात अपराधियों की लिस्ट बनाने का जिम्मा सौंपा है.

इसे भी पढ़ें – पीटीआर को हर साल मिलता है 4.5 करोड़ का फंड, फिर भी पांच माह से पीटीआर में नहीं दिखा बाघ

जमीन दलाली और रंगदारी है कमाई के मुख्य स्रोत

मुख्य रूप से शहर के अपराधियों की कमाई का स्रोत जमीन दलाली और रंगदारी को माना जा रहा है. साथ ही जमीन से जुड़े मामलों में ज्यादातर अपराधियों का ही नाम सामने आ रहा है. अगर हाल ही में घटे कई घटनाओं पर गौर करें तो ज्यादातर हत्या की पीछे की वजह जमीन विवाद और रंगदारी ही सामने आयी है. कुख्यात अपराधी सोनू इमरोज की हत्या भी इसी का नताजी था. सोनू  खुद का गिरोह बनाने में लगा हुआ था और यही वजह भी थी कि वह तेजी से रंगदारी वसूलने के काम में लगा हुआ था.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में 10 हजार से अधिक वारंटी हैं फरार, पुलिस नहीं कर पा रही है गिरफ्तार

बड़े अपराधी हैं खामोश

एक समय आतंक के नाम से जाने वाले बड़े अपराधी सुरेंद्र बंगाली ,अनिल शर्मा, सुशील श्रीवास्तव और भोला पांडे के गिरोह भी शांत है. शहर में हाल में कई छोटे अपराधी हावी होते जा रहे हैं. एक समय आतंक के नाम से गेम चलाने वाले अपराधी सुरेंद्र बंगाली ,अनिल शर्मा ,सुशील श्रीवास्तव, विकास तिवारी जैसे बड़े अपराधी शांत है. लेकिन राजधानी रांची में अपराध को अंजाम देने वाले सभी छोटे अपराधी हैं जो हाल के दिनों में अपराध की दुनिया में कदम रखा है.

इसे भी पढ़ें – रेलवे टिकट के अवैध कारोबार का भंडाफोड़, 86 लाख रुपये के 4000 से ज्‍यादा ई-टिकट बरामद

जेल में रहते हुए जमीन पर कब्जा दिलाने का कर रहे हैं काम

राजधानी के कुख्यात अपराधी जेल में रहते हुए जमीन पर कब्जा दिलाने का काम कर रहे हैं. इसके लिए वे अपने गुर्गे का इस्तेमाल करते हैं. इसके बदले उन्हें मोटी रकम मिल रही है. राजधानी के कुख्यात संदीप थापा, बिट्टू मिश्रा सुरेंद्र कच्छप, कुदरत अंसारी, सागर पाठक सहित कई अपराधी जेल में रहकर राजधानी के अलग-अलग हिस्सों में जमीन पर कब्जा दिलाने का काम कर रहे हैं. इस धंधे में अपराधी खौफ बनाकर जमीन पर कब्जा दिलाते हैं और इसके बदले जमीन कारोबारियों से मोटे पैसे वसूलते हैं. इस धंधे में अपराधियों की तनातनी से सरगर्मी बढ़ी है. वहीं, कई जगहों पर गैंगवार जैसी स्थिति बनी हुई है. जमीन पर कब्जा के चक्कर में कई हत्याएं भी हो चुकी हैं. सोनू इमरोज की हत्या के बाद गैंगवॉर की आशंका और तेज़ हो गई है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: