GiridihJharkhandLead News

मधुबन में होने भव्य महापारणा महाप्रतिष्ठा महोत्सव में शामिल होंगे लोकसभा अध्यक्ष, फिलीपींस की महारानी समेत केंद्रीय मंत्री और नेपाल के सांसद

आयोजन की तैयारी में जुटा दिगंबर जैन समाज, एक लाख वर्गफीट में हो रहा भव्य पंडाल का निर्माण, 30 से अधिक भक्त जुटेंगे

Giridih : विश्व प्रसिद्ध तीर्थस्थल सम्मेद शिखर मधुबन एक बार फिर एक बड़े धार्मिक आयोजन का गवाह बनने जा रहा है. 20 तीर्थंकर की इस निर्वाण भूमि में जैन समाज के एक सबसे बड़े जैन मुनि श्री प्रसन्न सागर जी महाराज करीब 596 दिनों के कठिन तप और साधना के बाद महाप्रयाण करेंगे. यानी वे अपनी साधना को खत्म करेंगे. 27 जनवरी से होनेवाले इस आठ दिवसीय महापारणा महोत्सव को लेकर गिरिडीह सम्मेद शिखर मधुबन के दिगंबर जैन समाज के बीस पंथी कोठी द्वारा युद्धस्तर पर तैयारी चल रही है. मधुबन मैदान में ही करीब एक लाख वर्गफीट में भव्य पंडाल का निर्माण किया जा रहा है. 27 जनवरी से होनेवाले इस महा आयोजन को लेकर मंगवार को बीस पंथी कोठी में प्रेसवार्ता हुई.

प्रेसवार्ता में जैन मुनि पियूष सागर जी महाराज समेत जैन समाज के बंटी जैन ने बताया कि आयोजन काफी बड़ा है. आयोजन में दूसरे दिन 28 जनवरी को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, योग गुरु स्वामी रामदेव, केंद्रीय मंत्री पुरुषोत्तम रूपाला, फिलीपींस की महारानी और नेपाल के दो सांसद भी शामिल होंगे. जैन मुनि पियूष सागर जी महाराज और बंटी जैन ने कहा कि इन सभी के आने का कार्यक्रम तय हो चुका है. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला और योग गुरु स्वामी रामदेव दोनों बाबा बैद्यनाथ धाम एयरपोर्ट पहुंचेंगे. बताया कि जैन समाज में भगवान महावीर के बाद किसी जैन मुनि ने इतने दिनों का कठिन तप और साधना सिर्फ जनमानस के लिए किया. ऐसे में मधुबन के डोली मजदूर संगठन के नेतृत्व ने भी मुनि प्रसन्न सागर जी महाराज का स्वागत करने का निर्णय लिया है. गिरिडीह पुलिस भी मुनि जी का स्वागत करने के साथ उनसे आशीर्वाद लेगी. 10 फरवरी को ही वो सम्मेद शिखर से विहार करेंगे, लेकिन 27 जनवरी को मुनि श्री प्रसन्न सागर जी महाराज सम्मेद शिखर के पारसनाथ पहाड़ के टोंक से नीचे उतरना शुरू होगा. पहाड़ के नीचे एक किलोमीटर छेत्रपाल से उनका भव्य स्वागत कर सम्मेद शिखर आयोजन स्थल लाया जायेगा. इस दौरान पहाड़ से नीचे तक उनका स्वागत मधुबन के आदिवासी समुदाय द्वारा पारंपरिक स्वागत किया जायेगा. तो उनके स्वागत के लिए मध्य प्रदेश, राजस्थान और मुंबई से सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत करते हुए नीचे लाया जायेगा.

प्रेसवार्ता के क्रम में जैन मुनि पीयूष सागर जी महाराज और मध्य प्रदेश के बंटी जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि इस भव्य आयोजन में विश्व भर से तीस हजार से अधिक जैन समाज के भक्तों की भीड़ जुट रही है. इस बड़े आयोजन के पहले दिन 27 जनवरी को मुनि प्रसन्न सागर जी महाराज आयोजन स्थल मंच पर रहेंगे. उनके साथ लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, स्वामी रामदेव के साथ केंद्रीय मंत्री और  राज्य के मंत्री जगरनाथ महतो समेत कई अतिथि शामिल होंगे. मुनि पियूष जी महाराज ने बताया कि भगवान महावीर के बाद जैन समाज के इतने बड़े तीर्थंकर 596 दिन का तप और साधना के साथ उपवास और मौन तोड़ रहे हैं तो यह विश्व जैन समाज ही नहीं, बल्कि पूरे जनमानस के लिए काफी महत्पूर्ण हो जाता है. क्योंकि गिरिडीह का सम्मेद शिखर मधुबन जैन समाज के लिए काफी महत्पूर्ण है और इसी भूमि में जैन समाज के 20 तीर्थंकर ने निर्वाण हासिल किया.

इसे भी पढ़ें – प्रदेश भाजपा के मोर्चा प्रमुखों ने हेमंत सरकार के खिलाफ भरी हुंकार

Related Articles

Back to top button