Lead NewsSci & TechTOP SLIDERWorld

स्पेस टूरिज्म में Space X ने रचा इतिहास, 4 लोगों को 3 दिन के लिए भेजा अंतरिक्ष, देखें खूबसूरत VIDEO

Washington : एलन मस्क (Elon Musk) की कंपनी Space X का पहला आल-सिविलियन क्रू बुधवार रात अंतरिक्ष की ओर रवाना हो गया. कंपनी ने पहली बार 4 आम लोगों को अंतरिक्ष में भेजा. इस मिशन को इंसपिरेशन 4 नाम दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : इंतजार खत्मः अक्टूबर से लग सकता है बच्चों को कोरोना टीका, पहले बीमार को, बन रही है सूची

advt

खास बात ये है कि धरती की कक्षा में जाने वाला ये पहला नॉन प्रोफेशनल एस्ट्रोनॉट्स का क्रू है. अंतरिक्ष में जाने वाले चारों यात्री ड्रैगन कैप्सूल से अंतरिक्ष में रवाना हुए हैं. ये यात्री इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन से 160 किमी ऊंची उच्च कक्षा से दुनिया की परिक्रमा करते हुए अंतरिक्ष में तीन दिन गुजारेंगे. इसके बाद स्पेसक्राफ्ट पृथ्वी के वायुमंडल में फिर से प्रवेश करेगा और फ्लोरिडा के तट से नीचे गिर जाएगा.

आपकों बता दें कि 2009 के बाद पहली बार इंसान इतनी ऊंचाई पर पहुंचा है. मई 2009 में वैज्ञानिक हबल टेलिस्कोप की रिपेयरिंग के लिए 541 किलोमीटर की ऊंचाई पर गए थे. इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) पर अंतरिक्ष यात्रियों का आना-जाना लगा रहता है, लेकिन यह 408 किलोमीटर की ऊंचाई पर है. इस मिशन को इंस्पिरेशन 4 नाम दिया गया है.

इसे भी पढ़ें : टी20 वर्ल्ड कप के बाद होनेवाला टीम इंडिया का न्यूजीलैंड दौरा स्थगित, जानिए क्या है वजह

इस मिशन की कमान 38 साल के इसाकमैन के हाथों में है. इसाकमैन पेमेंट कंपनी के फाउंडर और CEO हैं. उन्होंने 16 साल की उम्र में इस कंपनी की शुरुआत की थी. यह स्पेसएक्स के संस्थापक एलन मस्क की अंतरिक्ष पर्यटन की दुनिया में पहली एंट्री है. इससे पहले ब्लू ओरिजिन और वर्जिन स्पेस शिप ने भी प्राइवेट स्पेस टूरिज्म की शुरुआत करते हुए उड़ान भरी थी.

इसाकमैन के अलावा इस ट्रिप में हेयली आर्केनो भी हैं. 29 साल की हेयली कैंसर सर्वाइवर हैं. वे सेंट जूड चिल्ड्रन रिसर्च हॉस्पिटल में फिजिशियन असिस्टेंट हैं. मिशन को लीड कर रहे इसाकमैन ने अस्पताल को 100 मिलियन डॉलर की रकम दान देने का वादा किया है. वे इस मिशन से 100 मिलियन डॉलर और जुटाना चाहते हैं.

इन दो लोगों के अलावा इस सफर पर जाने वाले लोगों में अमेरिकी एयरफोर्स के पायलट रहे क्रिस सेम्ब्रोस्की और 51 साल के शॉन प्रोक्टर भी शामिल हैं. 51 साल के प्रोक्टर एरिजोना के एक कॉलेज में जियोलॉजी की प्रोफेसर हैं. हेयली अंतरिक्ष में जाने वाली सबसे कम उम्र की अमेरिकी नागरिक हैं. नासा के फ्लोरिडा स्थित कैनेडी स्पेस रिसर्च सेंटर से फाल्कन-9 रॉकेट ने उड़ान भरी. इस बार ड्रैगन कैप्सूल 357 मील यानी करीब 575 किलोमीटर की ऊंचाई पर पृथ्वी की कक्षा में पहुंचेगा. यह हबल स्पेस टेलिस्कोप से ठीक आगे तक.

इसे भी पढ़ें :रूपा तिर्की मौत मामलाः सीबीआई की फॉरेंसिक टीम पहुंची साहिबगंज, खंगाला जायेगा रूपा का कमरा

मिशन की क्या खासियत है?

• धरती की कक्षा में जाने वाला ये पहला नॉन प्रोफेशनल एस्ट्रोनॉट्स का क्रू है. इस मिशन के चारों लोग इससे पहले कभी अंतरिक्ष में नहीं गए हैं. चारों आम लोग हैं.
• इससे पहले ब्लू ओरिजिन और वर्जिन स्पेस शिप ने भी प्राइवेट स्पेस टूरिज्म की शुरुआत की थी, लेकिन ये दोनों स्पेसक्राफ्ट एज ऑफ स्पेस तक ही गए थे. बता दें कि इसाकमैन का स्पेसक्राफ्ट धरती की ऑर्बिट में चक्कर लगाएगा. दूरी के अनुसार देखा जाए तो ये पहले के दोनों स्पेसक्राफ्ट से करीब 475 किलोमीटर ज्यादा दूर जाएगा.
• इसके अलावा ब्लू ओरिजिन और वर्जिन स्पेस शिप के मिशन कुछ मिनटों के ही थे. वे लोग स्पेस में गए और कुछ मिनटों बाद दोबारा धरती पर लौट आए, .
• इस स्पेसक्राफ्ट में दो ट्रेन्ड पायलट हैं, लेकिन स्पेसक्राफ्ट को ऑपरेट करने में उनका कोई रोल नहीं है. वर्जिन स्पेस शिप को दो पायलट ऑपरेट कर रहे थे.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: