JharkhandLead NewsRanchi

झारखंड के आदिवासियों की सबसे अधिक जमीन सोरेन परिवार ने लूटी- बाबूलाल

Ranchi: विश्वास रैली में भाजपा के नेता बाबूलाल मरांडी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के प्रति इस प्रदेश की जनता ने विश्वास दिखाया है. राष्ट्रीय अध्यक्ष के समक्ष उपस्थित रहने पर सभी को बधाई दी. उन्होंने कहा कि भाजपा के दिलों में झारखंड प्रदेश बसता है. प्रदेश का आदिवासी समाज बसता है. अलग झारखंड राज्य के लिए अनुसूचित जाति भाइयो और बहनों ने अग्रिम पंक्ती में खड़े होकर लड़ाई लड़ी थी. जो लोग लड़ रहे थे उनलोगों ने कांग्रेस के साथ मिलकर यहां के लोगों को ठगने और छलने का काम किया. 1998- 99 में जब अटल बिहारी भाजपा के नेतृत्व में सरकार बनी तो तीन साल भी नहीं गुजरा था कि अलग झारखंड राज्य को बना दिया. अलग राज्य बनने के बाद भी विकास का काम नहीं हुआ. लेकिन बीजेपी के राज में तसवीर बदली. गांवों तक सड़के और बिजली पहुंची. उन्होंने कहा कि रांची लेकर दुमका तक जमींदारी प्रथा तो समाप्त हो गई. लेकिन सबसे अधिक जमीन शिबू सोरेन और हेमंत सोरेन के परिवार ने लूटा है.

ये भी पढ़ें: विश्व पर्यावरण दिवस पर सीआरपीएफ 60 बटालियन ने “केवल एक पृथ्वी” पर वार्षिक पौधारोपण अभियान आयोजित

यहां के अदिवासी उनका परिवार नहीं

उन्होंने वर्तमान सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कोई भी आदिवासी उनका परिवार नहीं है. परिवार इनका तो वहीं है जो ससुराल का हो, अपने घर का हो या इर्द-गिर्द घूमने वाले चमचे बेलचे ही उनके परिवार है.

बीजेपी की गिनाई उपलब्धियां, जेएमएम पर निशाना

-हमारी सरकार ने हजारों नौजवानों को रोजगार के लिए बस उपलब्ध कराए
-25-30 नौजवानों को सरकार ने अपने खर्च पर जहाज उड़ाने की ट्रेनिंग और नौकरी दी.
-जब भी भाजपा की सरकार बनी तो विकास के काम हुए, पीएम के नेतृत्व में देश तरक्की कर रहा.
-झारखंड के गांवों में सड़कें नहीं थी और आज केंद्रीय नेतृत्व में गांवों तक सड़कें बनाई गई.
-आज सड़क बनने के बाद लोगों को पैदल नहीं जाना पड़ता.
-जिन गावों में बिजली नहीं देखी थी तो बीजेपी की सरकार ने दिखा दी.
-आदिवासियों की बात करते है लेकिन घर से दूर कोई आदिवासी नहीं दिखता.
-अपने नाम से खदान लीज लेते है, भाई के नाम से और पत्नी के नाम से लीज ली.
-प्रेस सलाहकार के नाम से, विधायक प्रतिनिधि की पत्नी के नाम से लीज ली.
-जमीन के लोगों को लूटने का काम किया.
-खान और खनिज को भी लूटने का काम किया.
-सचिव के यहां छापा और करोड़ों रुपये मिलने पर दर्द किसे हुआ.

Related Articles

Back to top button