न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सोमनाथ चटर्जी के पुत्र ने सीपीएम नेता बिमान बोस, मोहम्मद सलीम को घर से बाहर निकाला!

सोमनाथ चटर्जी के निधन पर शोक प्रकट करने पहुंचे सीपीएम के आला नेताओं को स्व चटर्जी  के परिजनों ने घर में आने नहीं दिया.

262

Kolkata : सोमनाथ चटर्जी के निधन पर शोक प्रकट करने पहुंचे सीपीएम के आला नेताओं को स्व चटर्जी  के परिजनों ने घर में आने नहीं दिया. खबरों के अनुसार सीपीएम के नेता बिमान बोस और प्रदेश सचिव सूर्यकांत मिश्र सहित कई बड़े नेता श्री चटर्जी के निधन पर शोक संवेदना प्रकट करने सेामवार को साउथ कोलकाता स्‍थ‍ित उनके घर पहुंचे थे. सूत्रों के अनुसार अपने घर पर सीपीएम नेताओं को देखकर परिजन बिफर पड़े. सोमनाथ चटर्जी के पुत्र ने इन नेताओं को घर में घुसने से मना किया.  सोमनाथ चटर्जी के वकील पुत्र प्रताप चटर्जी ने घर के अंदर से ही कहा, उन्हें तुरंत बाहर का रास्ता दिखा दो.  वह उन लोगों में से थे, जिन्होंने मेरे पिता को पार्टी से निकाला था.

बिमल बोस के आने से कुछ दूर पहले आये सांसद मोहम्मद सलीम से प्रताप चटर्जी  ने कहा, क्या मैं आपसे कमरा खाली करने के लिए कह सकता हूं?  बिमान बोस ने सोमनाथ चटर्जी के बेटे के व्‍यवहार पर कहा कि मैंने अंदर से कुछ आवाज सुनी थी.  यह काफी तेज स्वर था.  लेकिन मैं यह समझ नहीं सका कि यह सब क्‍या था?

 इसे भी पढ़ें एकसाथ चुनाव के पक्ष में भाजपा, कहा- देश हमेशा चुनावी मोड में नहीं रह सकता

मैं नहीं चाहती हूं कि बाबा का पार्थ‍िव शरीर लाल झंडे से लपेटा जाये

इस क्रम में सोमनाथ चटर्जी की बेटी ने अनुशिला ने कहा, मैं नहीं चाहती हूं कि बाबा का पार्थ‍िव शरीर सीपीएम हेडक्‍वॉर्टर में ले जाया जाये या उनके शरीर को लाल झंडे से लपेटा जाये.  हमें ऐसा क्यों करना चाहिए? क्‍या वह पार्टी के सदस्‍य थे? अनुशिल  के अनुसार उनकी मां भी यह नहीं चाहती हैं कि चटर्जी का  पार्थिव शरीर अलीमुद्दीन स्‍ट्रीट स्‍थ‍ित सीपीएम कार्यालय ले जाया जाये.  सोमनाथ चटर्जी के परिजनों के गुस्से की एक वजह सीपीएम पोलित ब्यूरो की तरफ से उनके निधन पर जारी किया गया बयान बताया जा रहा है.  पोलित ब्यूरो ने अपने बयान में सोमनाथ चटर्जी को पार्टी का पूर्व नेता कहने के बजाये पूर्व लोकसभा अध्‍यक्ष और 10 बार के लोकसभा सांसद के रूप में याद किया था.

इसे भी पढ़ेंःरांची-टाटा हाइवे में हैं हजारों गड्ढे, अधूरा सड़क का निर्माण महीनों से रूका

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: