NEWS

बेच दिया गया स्वर्णरेखा नदी का उद्गम स्थल! हाईकोर्ट ने जताया आश्चर्य, सरकार से जवाब तलब

Ranchi: झारखंड हाई कोर्ट में अतिक्रमण के मसले को लेकर सुनवाई हुई. जिसमें कांके डैम और धुर्वा डैम के साथ शहर के अन्य जलाशयों और नगड़ी स्थित स्वर्णरेखा नदी के उद्गम स्थल को अतिक्रमण मुक्त करने की मांग को लेकर दायर जनहित याचिका पर सुनवाई हुई.

Jharkhand Rai

सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता राजीव सिंह के अधिवक्ता ने अदालत को बताया गया कि स्वर्णरेखा नदी के उद्गम स्थल और उसके आसपास की जमीन पर बाउंड्री वॉल खड़ी कर दी गई है, इतना ही नहीं उक्त जमीन को स्थानीयों के द्वारा बेच भी दिया गया है. धुर्वा डैम एवं कांके डैम के आसपास भी अतिक्रमण बढ़ता जा रहा है जिससे जलाशयों की स्थिति दिन-ब-दिन खराब होती जा रही है जिस पर अदालत ने आश्चर्य जताया कि नदी का उद्गम स्थल बेच दिया जाना गंभीर मामला है.

तीन हफ्तों में जवाब दे सरकार- हाईकोर्ट

चीफ जस्टिस डॉ रविरंजन एवं जस्टिस संजय कुमार द्विवेदी की अदालत में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हुई सुनवाई के दौरान अदालत ने राज्य सरकार, अर्बन डेवलपमेंट डिपार्टमेंट एवं पेयजल एवं स्वच्छता विभाग को तीन सप्ताह में जवाब दाखिल करने का निर्देश देते हुए नदियों,जलाशयों एवं तालाबों के आसपास हो रहे अतिक्रमण को गंभीर मामला बताया. इस मामले की अगली सुनवाई 25 सितंबर को होगी.

उल्लेखनीय है कि कांके रोड निवासी राजीव कुमार सिंह की ओर से रांची एवं इसके आसपास के जल स्रोतों को संरक्षित करने एवं इसमें हो रहे अतिक्रमण को हटाने की मांग को लेकर झारखंड हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है. जनहित याचिका में कहा गया है कि कांके डैम एवं धुर्वा डैम की सैकड़ों एकड़ जमीन अतिक्रमणकारियों ने हड़प ली गई है और वहां मल्टी स्टोरेज बिल्डिंग का निर्माण किया जा रहा है जिसका काफी बुरा असर जलाशयों पर पढ़ रहा है.

Samford

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: