न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सोहराबुद्दीन मुठभेड़ : गवाह का दावा- डीजी वंजारा ने दिये थे हरेन पंड्या की हत्या के आदेश

31

Mumbai : चर्चित सोहराबुद्दीन शेख कथित फर्जी मुठभेड़ मामले में एक गवाह ने अपने बयान से खलबली मचा दी है. इस गवाह ने शनिवार को मुंबई में एक निचली अदालत को बताया कि सोहराबुद्दीन ने गुजरात के पूर्व गृह मंत्री हरेन पंड्या की हत्या की थी. इस गवाह ने जो सबसे बड़ी बात कह दी है, वह यह है कि उसने दावा किया है कि गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी डीजी वंजारा ने ही पूर्व मंत्री हरेन पंड्या की हत्या के आदेश दिये थे. इस गवाह के नाम का अभी खुलासा नहीं किया गया है.

इसे भी पढ़ें- कृषि विशेषज्ञ पी साईंनाथ की नजर में मोदी सरकार की फसल बीमा योजना राफेल से भी बड़ा गोरखधंधा

क्या है मामला

बता दें कि गुजरात के पूर्व गृह मंत्री हरेन पंड्या की हत्या साल 2003 में अहमदाबाद में हुई थी. इस हत्याकांड के गवाह ने कहा कि उसने 2002 में सोहराबुद्दीन से मुलाकात की थी और फिर उसकी दोस्ती सोहराबुद्दीन, उसकी पत्नी कौसर बी और उसके सहयोगी तुलसी प्रजापति से हो गयी थी. अदालत में गवाह ने कहा कि उस वक्त सोहराबुद्दीन ने उसे बताया कि उसे गुजरात के गृह मंत्री हरेन पंड्या की हत्या करने के लिए डीजी वंजारा से पैसे मिले थे और उसने वह काम पूरा किया. गवाह ने अदालत को बताया कि उसने सोहराबुद्दीन से कहा कि उसने जो कुछ किया, वह गलत था और उसने एक अच्छे इंसान की हत्या की.

इसे भी पढ़ें- बोफोर्स कांड अलग, राफेल डील में भ्रष्टाचार और राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता दोनों किये गये :  …

palamu_12

वंजारा समेत 16 आरोपियों को निचली अदालत पहले ही आरोपमुक्त कर चुकी है

गवाह ने अदालत को बताया कि वर्ष 2005 में राजस्थान पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया था. गिरफ्तारी के बाद उसे उदयपुर जेल में रखा गया था, जहां उसकी मुलाकात प्रजापति से हुई थी. सीबीआई के विशेष न्यायाधीश एसजे शर्मा के समक्ष अपना बयान दर्ज कराते हुए गवाह ने कहा, ‘‘प्रजापति ने मुझसे कहा कि गुजरात पुलिस ने सोहराबुद्दीन और उसकी पत्नी कौसर बी की हत्या की.’’ गवाही अगले हफ्ते जारी रहेगी. गुजरात पुलिस के साथ साल 2005 में एक कथित फर्जी मुठभेड़ में सोहराबुद्दीन और उसकी पत्नी मारी गयी थी. बाद में गुजरात एवं राजस्थान पुलिस के साथ एक अन्य कथित फर्जी मुठभेड़ में प्रजापति भी मारा गया था. इन दोनों कथित फर्जी मुठभेड़ों के लिए सीबीआई द्वारा आरोपी बनाये गये कुल 38 लोगों में से 16 को निचली अदालत आरोपमुक्त कर चुकी है. आरोपमुक्त होनेवालों में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, डीजी वंजारा और गुजरात एवं राजस्थान पुलिस के कुछ वरिष्ठ अधिकारी शामिल हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: