न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मारांगबुरु की पूजा अर्चना के साथ शुरू हुआ आदिवासी समुदाय का सोहराय उत्सव

1,541

Bakura:  मारांगबुरु की पूजा-अर्चना के बाद आदिवासी समुदाय का सोहराय उत्सव शुरू हो गया. चार दिन चलने वाले उत्सव के तीसरे दिन धामसा मादल की गूंज के साथ आदिवासी नृत्य आकर्षण का केंद्र रहा. गौरतलब है कि इलाके में सोहराय उत्सव को एक प्रकार से मिलन उत्सव के रूप माना जाता है.

सोहराय उत्सव की शुरुआत एक नवंबर को मारांगबुरु की पूजा अर्चना के मध्य शुरू हुई थी. प्रथा के अनुसार तीसरे दिन सभी परिजन एक साथ मिलकर पंक्ति भोज में शामिल होते हैं.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ेंः भाजपा में गये शोभन चटर्जी को ममता ने बुलाया, फिर से थाम सकते हैं तृणमूल का दामन

Related Posts

  नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी फाइलें सार्वजनिक करने की मांग

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के रहस्यमय तरीके से लापता होने की सच्चाई आज भी सामने नहीं आ सकी है. जापान में नेताजी की मौजूदगी से संबंधित तीन टॉप सीक्रेट फाइल्स हैं जिन्हें आज तक रिलीज नहीं किया गया है.

थकान मिटाने का बहाना बनता है सोहराय

जिले के कोने-कोने से समुदाय के लोगों का समागम देखा गया. इस मौके पर दुर्गादास मुर्मू ने बताया कि हम सब कृषि जीवी लोग वर्ष भर खेती करते हैं. वर्ष भर खेती करने व कामकाज करने के बाद थकावट आती है. इसके बाद हमें उत्सव और आनंद की जरूरत होती है.

इस थकावट को दूर करने के उद्देश्य से ही सोहराय उत्सव का आयोजन किया जाता है. निर्दिष्ट दिन प्रतिपद से शुक्लपक्ष से ही उत्सव शुरू होता है. पश्चिम बंगाल, उड़ीसा और झारखंड व बिहार में भी सोहराय मनाया जाता है. यहां हमारे देवता मारांगबुरु की पूजा की जाती है.

इसे भी पढ़ेंः #NRC के खिलाफ गोलबंद हुई वामपंथी पार्टियां, 15 नवंबर को यात्रा अगेंस्ट एनआरसी महारैली

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like