Uttar-Pradesh

समाजवादी सेक्युलर मोर्चा लोकसभा चुनाव में सभी 80 सीटों पर लड़ेगा : शिवपाल यादव

Lucknow : शिवपाल सिंह यादव का समाजवादी सेक्युलर मोर्चा 2019 के लोकसभा चुनाव में सभी  80 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ेगा. शिवपाल सिंह यादव के इस एलान से उनके भतीजे पूर्व सीएम व सपा अध्यक्ष  अखिलेश यादव सकते में है. शुक्रवार को बागपत पहुंचे शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी में उपेक्षित और सामान विचारधारा वाली पार्टियों के साथ मिलकर उनका मोर्चा चुनाव लड़ेगा. शिवपाल के इस एलान के बाद कहा जा रहा है कि अब यह साफ हो गया है कि उन्होंने अलग राह पकड़ ली है. बता दें कि पत्रकारों से
बातचीत के क्रम में शिवपाल ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के गठन को लेकर कहा कि उन्होंने ऐसा राष्ट्रीय एकता के लिए किया है. कहा कि समाजवादी पार्टी के उपेक्षित, अपमानित और जो लोग हाशिए पर हैं, उन्हें एकजुट कर आगे की लड़ाई वे लड़ने जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंःराज्य के प्रधान मुख्य वन संरक्षक संजय कुमार की बोलती बंद, जनसंवाद में आरोपी अफसर पर नहीं दे पाये सही जवाब, सीएम बोले हटाओ डीएफओ को

समाजवादी पार्टी में उपेक्षित और अपमानित लोगों को सेक्युलर मोर्चे में जोड़ेंगे

बता दें कि बुधवार को शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा के गठन की घोषणा की थी. उन्होंने कहा था कि समाजवादी पार्टी में उपेक्षित और अपमानित लोगों को इसमें जोड़ेंगे. शिवपाल का कहना था कि पार्टी में नेताजी (मुलायम सिंह यादव) का सम्मान न होने से आहत हूं. मुझे भी पार्टी में किसी भी मीटिंग में नहीं बुलाया जाता. इस मोर्चे से वे ऐसे सभी लोगों को जोड़ेंगे, जिनका अपमान हो रहा है. साथ ही इसके साथ क्षेत्रीय दलों को भी जोड़ने की बात कही.

इसे भी पढ़ेंःबोकारो डीसी के फैसले से सरकार को होता 3.5 करोड़ का नुकसान, जिसे मिली थी कौड़ी के भाव जमीन उसी ने बढ़ायी बोली 

यूपी की किस्मत बदलना सेक्युलर मोर्चे का उद्देश्य

शिवपाल सिंह यादव बिनोली के दरकावदा गांव में कार्येकर्ताओं के साथ बैठक के बाद  पत्रकारों से रूबरू थे. उन्होंने कहा कि यूपी की किस्मत बदलना सेक्युलर मोर्चे का उद्देश्य है. आने वाले चुनावों में मोर्चा सभी 80 सीटों पर चुनाव लड़ेगा.  इसके लिए समान विचारधारा वाले दलों को एकजुट किया जायेगा. पूछे जाने पर कि वे किसके खिलाफ हैं, समाजवादी पार्टी या फिर अखिलेश से, तो जवाब में कहा कि उनकी किसी से विरोध नहीं है. वे उन लोगों की लड़ाई लड़ रहे हैं, जो सपा में उपेक्षित और अपमानित हैं.

Related Articles

Back to top button