ChaibasaJamshedpurJharkhand

चाईबासा : हो समाज में सामाजिक एकता जबर्दस्त, लेकिन अल्पज्ञानी लोगों के कारण सामाजिक एकता को नुकसान पहुंचा है

कोल्हान समन्वय मंच की सभा में बोले मुकेश बिरूवा

Chaibasa : प्रखण्ड कुमारडुंगी अन्तर्गत पंचायत बारूसाई स्थान मौजा चांदगुनिया स्कूल मैदान पेड़ के नीचे कोल्हान समन्वय मंच की सभा हुई. सभा को सम्बोधित करते हुए मुकेश बिरुवा ने कहा कि हो समाज में सामाजिक एकता जबरदस्त है, लेकिन अल्पज्ञानी लोगों के कारण सामाजिक एकता को नुकसान पहुंचा है. हो समाज की व्यवस्था में गांव में एक मुंडा और क्षेत्र में एक मानकी की जगह है, रामो बिरुआ ने समाज को बांटने के लिए अपना व्यक्तिगत खेवट मुंडा और मानकी बहाल कर रहे थे, जो सामाजिक तौर पर भी ग़लत था और क़ानूनी तौर पर भी ग़ैर क़ानूनी है.

आज की स्थिति में खेवट सिस्टम समाप्त हो चुका है और कोल्हान सिंहभूम ज़िला अंतर्गत भारत का अभिन्न अंग है. जो लोग भी कोल्हान राज्य सरकार के नाम से संगठन चलाने की कोशिश कर रहे थे वे भी ग़लत थे. अब हम समाज को बंटने नहीं देंगे. ऐसे असामाजिक तत्वों से समाज को मुक्त करने के संकल्प के साथ क्षेत्र का भ्रमण हम कर रहे हैं. मुंडा बलांडिया बजाय लागुरी ने ग्राम सभा की ताक़त को मज़बूत करने की बात कही. उन्होंने कहा कि ग्राम सभा को मज़बूत करने के लिए ग्राम सभा में वित्तीय ताक़त का होना जरूरी है. हम शुरुआत में सामूहिक दान के आधार पर इसकी बुनियाद रख सकते हैं, और तीन व्यक्तियों द्वारा कोष का संचालन किया जाना चाहिए.

मानकी गणेश पाट पिंगुवा ने डायन प्रथा के नाम पर शोषण, बाल विवाह, और पलायन की जानकारी देते हुए लोगों को सम्बोधित किया. डायन प्रथा हो या बाल विवाह एक सामाजिक बीमारी है, और इसे सामाजिक जागरूकता से ही समाप्त किया जा सकता है.
आज की सभा में पंचायत स्तर पर काफ़ी ग्रामीण शामिल हुए.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें –  सरायकेला : आदित्यपुर में वर्चस्व की लड़ाई में हुई थी फायरिंग, पार्षद के रिश्तेदार समेत चार युवक गये जेल, हथियार व कारतूस बरामद

The Royal’s
Sanjeevani

Related Articles

Back to top button