BiharLead NewsNationalNEWS

गंगा किनारे अब तक 206 शवों को दफनाया गया, सबसे अधिक गाजीपुर में

Patna: बिहार व उत्तर प्रदेश में गंगा नदी के किनारे अब तक 206 शवों को दफनाया जा चुका है. प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में गंगा के किनारे गड्ढा खोदकर शवों को दफनाया गया. मालूम हो कि दो दिन पूर्व बक्सर जिले के चौसा श्मशान घाट पर इधर-उधर बिखरी लाशें दिखाई दी थी. जिससे देश भर में सनसनी मची हुई थी. वास्तव जब यहां से 71 लाशें निकलीं.

 

advt

प्राप्त जानकारी के अनुसार सबसे सबसे अधिक शव गाजीपुर में निकाले गए। यहां गंगा से 73 शव निकाले गए. बक्सर में 71 और बलिया में 62 शवों को निकालकर दफनाया गया है. ग्रामीणों की मानें तो दर्जनों लाशें गंगा में आगे बह गईं हैं. इससे इन इलाकों में दहशत है.

 

बक्सर के डीएम अमन समीर ने बताया कि सभी शवों का डीएनए सैंपल लिया गया है. शव के तीन-चार दिन पुराने होने के कारण पोस्टमार्टम नहीं कराया जा सका. कोविड जांच के लिए स्वाब भी नहीं लिया जा सका।. गंगा तट पर ही शवों को मिट्टी में दफना दिया गया. डीएम ने दावा दुहराया कि चौसा घाट पर मिली लाशें उत्तर प्रदेश से बहकर आईं हैं. ये लाशें बक्सर की नहीं है.

 

 

मालूम हो कि गंगा के किनारे कुछ इलाकों में शव के गंगा में प्रवाह की परंपरा रही है. मगर, कोरोना काल में इतनी बड़ी संख्या में लाश का मिलना डर पैदा कर रहा है. इधर, प्रशासन ने गंगा में शव प्रवाह पर रोक लगा दी है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: