JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

Skoch अवार्ड 2022: रैकिंग सुधारने का झारखंड को अवसर, दो साल से है पिछड़ा

Nikhil Kumar

Ranchi: झारखंड को देश के प्रतिष्ठित स्कॉच स्टेट ऑफ गवर्नेंस अवार्ड 2022 में इस साल अपनी रैकिंग सुधारने का अवसर है. विगत दो सालों से मिनिमम गर्वमेंट,मैक्सीमम गर्वनेंस के लिए दिए जाने वाले स्कॉच अवार्ड में झारखंड की स्थिति अच्छी नहीं है. 2020 में जहां झारखंड को स्कॉच अवार्ड के तहत 19वां रैकिंग मिला था तो 2021 में यह और गिरकर 23वां स्थान में पहुंच गया. हालांकि, 2016 में झारखंड की स्थिति सबसे बेहतर थी राज्य टॉप टेन में शामिल थ. ऐसे में स्कॉच अवार्ड 2022 में राज्य की रैकिंग सुधारने का एक बार फिर मौका मिला है.

 

इसके लिए विभागों से आवेदन मांगे गये हैं. उनके मातहत गर्वनेंस से जुड़े जितने भी कार्य किए गये हैं उनका प्रोजेक्ट तैयार कर प्रतिष्ठित अवार्ड के लिए नॉमिनेट करने का निर्देश दिया गया है. इस संबंध में स्कॉच ग्रुप की ओर से मुख्य सचिव झारखंड व कार्मिक सचिव झारखंड को पत्र लिखा गया है,और नामांकन के लिए अधिक से अधिक प्रोजेक्ट मांगे हैं. स्कॉच ग्रुप की ओर से कहा गया है कि भारत सरकार के द्वारा प्रारंभ  की गयी मिनिमम गर्वमेंट,मैक्सीमम गर्वनेंस के तहत किए गये 100 से अधिक प्रोजेक्ट अगर समर्पित किए जाते हैं तो राज्यों की रैंकिंग बेहतर होगी. यह देखा गया है कि 2016 में जहां झारखंड की रैंकिग टॉप टेन में थी. उस वक्त छठा स्थान मिला था,लेकिन 2020 में झारखंड से सिर्फ 11 प्रोजेक्ट भेजे गये थे इस वजह से 19वां रैकिंग प्राप्त हुआ वहीं, 2021 में नौ प्रोजेक्ट ही भेजे गये जिस वजह से 23वां रैकिंग प्राप्त हुआ. जिलों से काफी कम रिपोर्ट मिले,विभागों ने भी रूचि नहीं दिखायी. जिस वजह से राज्य की रैंकिग पिछड़ी है. ऐसे में अधिक से अधिक प्रोजेक्ट भेजने पर राज्य की रैकिंग बेहतर होगी और नंबर वन या टॉप टेन में झारखंड शामिल हो सकेगा. स्कॉच अवार्ड के लिए 30 तरह के कार्यो में प्रोजेक्ट भेजा जाना है. बता दें कि 2021 में स्कॉच ग्रुप ने गवर्नेंस रिपोर्ट कार्ड जारी किया है, जिसमें राज्यों को राज्य, जिला और ईमेल आर्टिकल प्रिंट आर्टिकल म्युनिसिपल स्तर पर विभिन्न  परियोजनाओं में उनके प्रदर्शन के अनुसार रैंकिंग दी गई थी. आंध्रप्रदेश को नंबर वन राज्य की रैकिंग मिली था.

 

काफी कम प्रोजेक्ट भेजे गये थे 2020-21 में

Sanjeevani

स्कॉच अवार्ड के लिए 2020 में विभिन्न जिलों से 10 व पुलिस और सुरक्षा से जुड़े एक प्रोजेक्ट यानि 11 प्रोजेक्ट भेजे गये. वहीं, 2021 में जिला प्रशासन से 2,निकाय प्रशासन से 1,सैनिटेशन से 1,ग्रामीण विकास से एक सहित कुल नौ प्रोजेक्ट भेजे  गये थे.

 

वर्ष   क्वालीफाइड प्रोजेक्ट     नेशनल रैंक झारखंड

2020 11   19

2021 9    23

 

इन कार्यो के लिए मिलता है स्कॉच अवार्ड

स्कॉच अवॉर्ड डिजिटल, वित्तीय और सामाजिक समावेशन के सर्वोत्तम प्रयासों के लिये स्कॉच ग्रुप के द्वारा प्रदान किया जाता ह. इसमें अवॉर्ड लोक सेवाओं की ऑनलाइन प्रदायगी और ई. गवर्नेंस को बढ़ावा देने,ई-लोक सेवा के रूप में अपनाए गए नवाचार की अनूठी पहल का कार्यान्वयन. इसके तहत सर्वोत्तम शासन, समावेशी विकास, प्रौद्योगिकी और अनुप्रयोगों में उत्कृष्टता, परिवर्तन प्रबंधन, कॉपोर्रेट नेतृत्व, कॉपोर्रेट प्रशासन, नागरिक सेवा वितरण, क्षमता निर्माण और सशक्तिकरण जैसे मुद्दों को शामिल किया जाता है.

 

इन विषयों में भेजना है प्रोजेक्ट

कृषि,पशुपालन,मत्स्य,सहकारिता,आपदा प्रबंधन,जिला प्रशासन,इज ऑफ डुइंग बिजनेस,शिक्षा,ई-गर्वनेंस,वित्त और राजस्व,खाद्य सुरक्षा व सप्लाई,वन एवं पर्यावरण,जियोलॉजी व माइनिंग,गर्वनेंस,हैंडलूम-टेक्सटाइल,हॉटीकल्चर,हाउसिंग,स्वास्थ्य,आधारभूत,सिंचाई,श्रम,निकाय प्रशासन,सैनिटेशन,पुलिस और सुरक्षा,ग्रामीण विकास,स्किल डेवलपमेंट,सामाजिक न्याय व सुरक्षा,खेलकूद,पर्यटन,संस्कृति,परिवहन,नगर विकास,जल,महिला और बाल विकास.

Related Articles

Back to top button