न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रद्द हो सकती है छठी सिविल सेवा परीक्षा !

6,353

Ranchi: झारखंड लोक सेवा आयोग की छठी सिविल सेवा परीक्षा को रद्द किया जा सकता है. परीक्षा के लिए निकाले गये विज्ञापन के अनुसार पीटी परीक्षा में 15 प्रतिशत रिजल्ट जारी होना था. 15 प्रतिशत रिजल्ट देने में जेपीएससी विफल रहा.

जेपीएससी पीटी परीक्षा का अब तक तीन बार रिजल्ट जारी हो चुका है. तीसरी बार जारी रिजल्ट को भी हाइकोर्ट ने निरस्त कर दिया है. जिसके बाद फिर से रिजल्ट में पेंच फंस गया है. जेपीएससी छठी सिविल सेवा परीक्षा पूरी नहीं हो पाना रघुवर दास सरकार की सबसे बड़ी विफलताओं में से एक है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें- #Chaibasa की घटना से मर्माहत सीएम ने राज्यपाल से कैबिनेट विस्तार रद्द करने का आग्रह किया

फिलहाल जो स्थिति है उसके तहत दूसरी बार जारी रिजल्ट में ही मेंस का परिणाम जारी किया जाना है. दूसरी बार में 6100 लोगों को पास घोषित किया गया था. इसी 6100 में मेंस के परिणाम आने की उम्मीद की जा रही है, और रिजल्ट लगभग बन कर तैयार है. लेकिन रिजल्ट आने की उम्मीद लगभग न के बराबर है.

सीएम हेमंत सोरेन ने नेता प्रतिपक्ष रहते हुए यह आश्वासन भी दिया था कि छठी सिविल सेवा परीक्षा मामले में कार्रवाई करेंगे. सूत्रों के अनुसार जेपीएससी छठी सिविल सेवा परीक्षा का कैंसिल होना लगभग तय है. सिर्फ मंत्रिमंडल गठन होने और कैबिनेट की सहमति का इंतजार किया जा रहा है.

मुख्य कारण जिन्हें ध्यान में रख कर रद्द की जा सकती है परीक्षा

विज्ञापन में जारी नियमावली का पालन नहीं होना

छठी जेपीएससी की परीक्षा के लिए जो विज्ञापन निकाला गया था, उसमें ये स्पष्ट था कि पीटी परीक्षा का रिजल्ट 15 गुणा जारी किया जायेगा. पर रिजल्ट अभी तक तीन बार जारी किया जा चुका है. जिससे रिजल्ट बढ़ कर 106 गुणा कर दिया गया था, तीसरी बार जारी रिजल्ट को कोर्ट ने निरस्त कर दिया है. परीक्षा स्थगित करने की मांग का यह प्रमुख कारण है. छात्रों का कहना है कि नियमसंगत परीक्षा प्रक्रिया के बीच में ही नियमावली में परिवर्तन नहीं किया जा सकता है.

बाउरी कमेटी की अनुशंसा का पालन नहीं होना

जेपीएससी पीटी परीक्षा तब विवादों में घिर गयी जब आयोग ने पीटी परीक्षा में आरक्षण नहीं दिया. रिजल्ट जारी होने के बाद छात्रों ने खुद बवाल किया. विधानसभा में भी विधायकों ने इस बात का विरोध किया. जिसके बाद मंत्री अमर कुमार बाउरी की अध्यक्षता में समिति बना कर अन्य राज्यों के प्रावधान का रिपोर्ट तैयार करने को कहा गया. समिति ने रिपोर्ट सौंपी भी. अनुशंसा में कहा गया कि सभी राज्यों के सिविल सेवा परीक्षा में आरक्षण का प्रावधान है, यूपीएससी में भी पीटी परीक्षा में आरक्षण दिया जाता है इसलिए यहां भी दिया जाना चाहिए. बाउरी कमिटी की उस अनुशंसा को दरकिनार कर सरकार ने रिजल्ट को 106 गुणा कर दिया था.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ें – बुरुगुलीकेरा: मृतकों के परिजनों से मिले मुख्यमंत्री, कहा- दोषियों पर होगी कठोर कार्रवाई

कब-कब हुआ रिजल्ट जारी

झारखंड लोक सेवा आयोग द्वारा ली गयी छठी सिविल सेवा परीक्षा अपने पहले परिणाम से ही विवादों में रही है. अब तक तीन बार रिजल्ट प्रकाशित किया जा चुका है. पहली बार का पीटी परीक्षा का परिणाम 5138 था, तीसरी बार जारी होते बढ़ कर 34 हजार हो गया. हालांकि हाइकोर्ट ने 34 हजार रिजल्ट को रद्द कर दिया है. पर जेपीएससी ने हर बार प्रकाशित रिजल्ट में आरक्षण के नियमों का पालन नहीं किया है. छठी जेपीएससी परीक्षा को लेकर विवाद 23 फरवरी 2017 को आयोग के द्वारा 5138 पीटी का रिजल्ट जारी करने से शुरू होता है. इस रिजल्ट में आरक्षण दिया जाता है, जिसके कारण आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थी सामान्य वर्ग के कट ऑफ मार्क्स के बराबर या उससे अधिक अंक लाने पर भी अपने ही वर्ग में रखे जाते हैं.

छात्र आंदोलन के बाद सरकार एक संकल्प (5562, तारीख-19.04.17) लाती है और उस पर कोर्ट की सहमति प्राप्त करती है. इस संकल्प के बाद जेपीएससी के द्वारा 6103 दूसरा पीटी का संशोधित रिजल्ट जारी किया जाता है. लेकिन जेपीएससी द्वारा जारी दूसरे संशोधित रिजल्ट (6103) पर भी विवाद हो जाता है. फिर सरकार अपने स्तर से रिजल्ट जारी कर देती है, जिसे फिर से हाईकोर्ट निरस्त कर देता है.

इन पदों पर होनी है नियुक्ति

  • झारखंड प्रशासनिक सेवा- 143
  • झारखंड वित्त सेवा- 104
  • झारखंड शिक्षा सेवा- 36
  • झारखंड सहकारिता सेवा- 09
  • झारखंड सामाजिक सुरक्षा सेवा- 03
  • झारखंड सूचना सेवा- 07
  • झारखंड पुलिस सेवा- 06
  • झारखंड योजना सेवा- 18

इसे भी पढ़ें – जम्मू-कश्मीर : SC में #Article_370  खत्म करने के खिलाफ याचिकाओं पर सुनवाई पूरी, बड़ी बेंच में भेजा जाये या नहीं,  फैसला सुरक्षित

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like