DhanbadJharkhandTop Story

सिंह मेंशन अपनी राजनीतिक साख बचा रहा या भाजपा की नैया डूबा रहा है

Ranjeet singh

Dhanbad:  धनबाद लोकसभा क्षेत्र का चुनाव इस बार धनबाद के लिये कई मायनों में महत्वपूर्ण होगा. सांसद पीएन सिंह के समक्ष खुद को तीसरी बार साबित करने और भाजपा का सम्मान बचाने की चुनौती है, तो धनबाद के लिए खास स्थान रखने वाले सिंह मेंशन की प्रतिष्ठा भी दाव पर लगी हुई है. एक की नैया डूबना तय है.

धनबाद में हर जगह इस बात की चर्चा है कि सिंह मैनसेन की बहू रागिनी जहां एक तरफ भाजपा में शामिल होकर भाजपा की नैया को डूबने से बचाने की कोशिश, वहीं विधायक संजीव सिंह के छोटे भाई व रागिनी के देवर सिद्धार्थ गौतम ने निर्दलीय उम्मीदवार के रुप में नामांकन करके भाजपा के लिये परेशानी पैदा कर दी है.

Sanjeevani

हालात यह है कि एक तरफ सिंह मेंशन का एक बेटा भाजपा के खिलाफ धनबाद लोकसभा में पीएन सिंह को टेंशन दे रहा है, वहीं दूसरी ओर झरिया के भाजपा विधायक संजीव सिंह की पत्नी भाजपा और पीएन सिंह को मजबूती देने में लगी हैं. ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि धनबाद में सिंह मेंशन  के समर्थ किसको सपोर्ट करेंगे. अभी यह साफ नहीं हो पाया है.

गौरतलब है कि भाजपा से झरिया के विधायक संजीव सिंह अभी नीरज सिंह हत्याकांड में धनबाद जेल में बंद हैं. जिसके कारण सिंह मेंशन  की राजनीतिक साख भी खतरे में दिख रही है. वहीं दूसरी तरफ मेंशन  की राजनीति साख खतरे में जाता देख संजीव सिंह के छोटे भाई सिद्धार्थ गौतम उर्फ मनीष सिंह ने धनबाद लोकसभा से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन किया है.

इसे भी पढ़ें – पीएम की सुरक्षा में लापरवाही, DIG ने जगन्नाथपुर थाना प्रभारी को जारी किया शोकॉज

सिद्धार्थ से पीएन सिंह को हो सकती है परेशानी

धनबाद में इस बात से कोई भी इंकार नहीं कर रहा है कि सिद्धार्थ सिंह के मैदान में आने से पीएन सिंह को चुनाव में परेशानी हो सकती है. ऐसा नहीं है कि सिद्धार्थ को लोकसभा चुनाव लड़ने से रोकने के लिए कोशिशें नहीं हुईं. भाजपा के कई बड़े नेता ने कोशिश की. लेकिन सिद्धार्थ ने किसी की बात नहीं मानी. सिद्धार्थ को उनकी मां का भी समर्थन हासिल है.

इसे भी पढ़ें – पलामू: शिक्षक ने छात्रा को कहा- आइ लव यू…, ऑडियो हो रहा वायरल

Related Articles

Back to top button