न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पाकुड़ में स्वामी अग्निवेश का विरोध स्वाभाविक था: सिमोन मालतो

पहाड़िया समाज में फूट डालने आये थे अग्निवेश

714

Ranchi : आदिम जाति विकास प्राधिकार, झारखंड के सदस्य सिमोन मालतो ने प्रदेश भाजपा कार्यालय में मीडिया से मुखातिक होते हुए कहा है कि अग्निवेश झारखंड में लोगों को लड़ाने-भिड़ाने का काम कर रहे हैं. वह साफ नीयत से नहीं, गलत नियत से झारखंड आये थे. स्वाामी की मंशा पहाड़िया समाज में फूट डालने की थी. लोगों ने उनकी मंशा को विफल कर दिया. वह उसी को हवा देने के लिए पाकुड़ आये थे.

इसे भी पढ़ें-विधानसभा :  सीपी सिंह ने सुखदेव भगत को छोड़कर, हेमंत, प्रदीप सहित विपक्ष के सभी को देशद्रोही बताया

पहाड़िया समाज अपनी चिंता खुद करेगा, उसे अग्निवेश की जरुरत नहीं

सिमोन मालतो ने कहा कि अग्निवेश पहाड़िया समाज के इतिहास से वाकीफ नहीं हैं. उन्होने कहा कि पहाड़िया समाज अपनी चिंता खुद कर लेगा. उसे अग्निवेश जैसे लोगों की जरूरत नहीं है. पाकुड़ में अग्निवेश का विरोध स्वानभाविक था. ऐसे समाज तोड़ने वालों को पहाड़िया समाज कभी बर्दाश्ती नहीं करेगा.

इसे भी पढ़ें-स्वामी अग्निवेश पर हुए हमले की जांच तेज, डीआईजी और आयुक्त ने की दुकानदारों से पूछताछ

स्वामी अग्निवेश का समर्थन करने वाले पहाड़िया समाज के विरोधी

silk_park

सिमोन मालतो ने कहा कि जो लोग स्वामी अग्निवेश का समर्थन कर रहे हैं, वे पहाड़िया समाज के विरोधी हैं. ऐसे लोग पहाड़िया समाज में फूट डालकर आपस में लड़ाना चाहते हैं. उन्होने कहा कि ऐसे राजनीतिक दलों ने साबित कर दिया है कि वे झारखंड के हितैषी नहीं है.

इसे भी पढ़ें-स्वामी अग्निवेश पर हमला अभिव्यक्ति को कूचलने का प्रयास : बाबूलाल मरांडी

अग्निवेश आतंकियों और उग्रवादियों का समर्थक

सिमोन मालतो ने कहा कि स्वामी अग्निवेश का इतिहास पूरा देश जानता है. वह उग्रवादियों और आतंकियों का समर्थक है. ऐसे लोग देस और समाज के हितैषी कभी नहीं हो सकते. उन्होने कहा कि पहाड़िया समाज देश को तोड़ने वालों, कश्मीरी अलगाववादियों का समर्थन करने वालों के साथ कभी नहीं आएगा. सिमोन मालते नो कहा कि अग्निवेश को पहाड़िया जनजाति के इतिहास की जानकारी नहीं है. पहाड़िया देश के लिए जीने और मरने वाले लोग हैं. हम मर जाएंगे लेकिन देश पर आंच नहीं आने देंगे. उन्होने कहा कि स्वामी अग्निवेश को पहाड़िया समाज का इतिहास जानकर पाकुड़ आना चाहिए था.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: