न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सिमडेगा : उपायुक्त ने कुपोषित बच्चों को चिन्हित करने का दिया निर्देश

100

Simdega: समाहरणालय में उपायुक्त जटाशंकर चौधरी की अध्यक्षता में स्वास्थ्य एवं समाज कल्याण विभाग की समीक्षात्मक बैठक हुई. उपायुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य जीवन मानव विकास एवं जिले के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है.  पोषण के क्षेत्र में वृद्धि के संबंध में चल रहे अभियान का निरीक्षण करने हेतु उपायुक्त सभी क्षेत्रों के पोषण समीक्षा सूची पर विशेष निगाह रख रहे है.  उपायुक्त ने पोषण अभियान विकास हेतु सभी सहिया एवं आगनबाड़ी सुपरवाईजर को कुपोषित बच्चों की सूची तैयार कर उनके माता पिता के मोबाईल नंबर नोट करने का निर्देश दिया. ताकि कुपोषित बच्चों को चिन्हित कर उन प्रत्येक सप्ताह उनके पोषण विकास पर पूर्ण रूप से नजर रखी जा सके.

इसे भी पढ़ें- बच्चों की देखरेख के नाम पर अनुदान राशि का मनचाहा उपयोग कर रहे एनजीओ, जांच में हुआ खुलासा

जलडेगा का गर्भवती महिलाओं को प्रथम एएनसी संतोषजनक नहीं

कोई भी कुपोषित बच्चा पोषण तथा बाल विकास पदाधिकारी के नजर से छूट नहीं  इसके लिए सुपरवाईजर को सही तरीके से  मोनेट्रींग करने का निर्देश दिया. स्वास्थ्य के क्रम में बढ़ते हुए प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना पर विशेष रूख करते हुए उपायुक्त ने सभी आंगनबाड़ी में सहिया, सहायिका, एएनएम को निर्देश दिया कि अपने क्षेत्र के सभी महिलाओं की मासिक चक्र की विशेष सूची तैयार कर अपने पास रखे. ताकि महिलाओं के प्रथम गर्भवती होने की जानकारी मिल सके.  प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को  संस्थागत प्रसव नहीं होने वाले क्षेत्रों की सूची  समर्पित करने का निर्देश दिया. समीक्षा के क्रम में जलडेगा का गर्भवती महिलाओं को प्रथम एएनसी संतोषजनक नहीं पाया गया.

बानो, जलडेगा में टीवी स्लाईड कलेक्शन सही तरीके से नहीं हो रहा है. उपायुक्त ने प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि कार्य में सुधार करते हुए शतप्रतिशत लक्ष्य की प्राप्ति करें. उपायुक्त ने सिविल सजर्न को कार्य में पिछड़े प्रखंडों को चिन्हित कर निरीक्षण करने तथा कार्य में सुधार कराने का निर्देश दिया. बैठक में उपविकास आयुक्त अनन्य मित्तल, सिविल सजर्न पी सिन्हां के अलावा अन्य पदाधिकारी भी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें- मिशनरीज ऑफ चैरिटी ने डीसी से की हिनू स्थित शिशु सदन को खोलने और बच्चे लौटाने की मांग

पीएम आवास योजना में अनियमितता मिली तो होगी शख्त कार्रवाई 

समाहरणालय  में उपायुक्त  जटाशंकर चौधरी  नगर परिषद् की समीक्षा की. समीक्षा  में उपायुक्त ने  कहा कि नगर परिषद् के आवास पदाधिकारी डेविट गुड़िया से लिखित में निर्मित आवास का प्रमाण पत्र प्राप्त किया जाए. जिसमें यह अंकित हो कि नगर परिषद् के द्वारा दिये गए आवास में किसी भी तरह की अनियमितता तथा नियमों को उल्लघन नहीं किया गया है. उपायुक्त ने यह भी कहा कि जांच के दौरान अगर बावास निर्माण में कुछ गलत पाया जाता है या फिर एक परिवार के दो व्यक्ति, नौकरी वाले, व्यवसाय तथा सक्ष्म व्यक्ति को आवास योजना का लाभ दिया गया है तो सख्त कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ें- मध्याह्न भोजन के लिए बननेवाले सेंट्रलाइज्ड किचन की स्थिति ठीक नहीं

सार्वजनिक स्थल के सभी चापाकलों को ठीक कराने का निर्देश

छठ तालाब के समीप बनाये जा रहे सामुदायीक शौचालय का कार्य 30 अक्टूबर तक पूर्ण कराने का निर्देश दिया. नगर परिषद् के सभी होटल, ढाबा में सामुदायिक नि:शुल्क शौचालय का की जांच करने का आदेश दिया गया.  दुर्गापूजा को देखते हुए  नगर परिषद् के सभी पंडालों के चापाकल तथा सड़क व सार्वजनिक स्थल के सभी चापाकलों को ठीक कराने का निर्देश दिया गया. एसटी, एससी छात्रवास तथा बस स्टैंड में सेनेटरी नैपकिंग अधिष्ठापन कराने का निर्देश दिया गया. इसके अलावे नगर परिषद् के द्वारा किये जा रहे अन्य कार्यो की भी समीक्षा की गई.  बैठक में नगर परिषद् कार्यपालक पदाधिकारी जगबंधु महथा, नगर परिषद् अध्यक्ष पुष्पा कुल्लू, उपाध्यक्ष ओमप्रकाश साहू, सीटी मैनेजर, वार्ड मेंबर, नगर परिषद् कर्मचारी उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: