Court NewsLead News

सिमडेगा मॉब लिंचिंग मामला पंहुचा हाइकोर्ट, जनहित याचिका दायर

Ranchi : सिमडेगा में हुए मॉब लिंचिंग मामले में हाइकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गयी. याचिका के प्रार्थी पंकज कुमार यादव हैं. दायर याचिका में मॉब लिंचिंग के शिकार परिवार को हाल ही में बने मॉब लिंचिंग एक्ट  झारखंड के अनुसार न्याय और सुविधा दिलाने के लिए मांग की है. वरिष्ठ अधिवक्ता राजीव कुमार की ओर से दायर इस जनहित याचिका में झारखंड सरकार, होम सेक्रेटरी, डीजीपी, सीनियर एसपी तथा थाना प्रभारी को पार्टी बनाया गया है. झारखंड भीड़ हिंसा एवं भीड़ लिंचिंग निवारण विधेयक 2021 के विधेयक के तहत भीड़ लिंचिंग के पीड़ित परिवार को कम से कम 5 लाख मुआवजा तथा दोषियों को लाइफटाइम सजा का प्रावधान है. सिमडेगा में हुए लिंचिंग के शिकार युवक संजू प्रधान की हत्या कोलेबिरा के गांव में जिंदा जला कर दी गयी थी. इस घटना में 250 अज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज हुई है. पंकज कुमार यादव ने जनहित याचिका के माध्यम से यह मांग की है कि सभी आरोपियों को चिन्हित कर कार्रवाई हो तथा नये बने कानून के तहत पूरे परिवार को मुआवजा मिले. पंकज यादव ने कहा कि जब तक मॉब लिंचिंग कानून को कड़ाई से लागू नहीं किया जाता है तब तक भीड़ कानून को हाथ में लेती रहेगी. लोग डायन बिसाही मामला, झाड़-फूंक मामला, जमीन विवाद तथा अपनी निजी दुश्मनी को भी निकालने के लिए मॉब लिंचिंग का रूप देते हैं. और इन सभी मामलों पर रोक लगाना बहुत जरूरी है. पंकज यादव तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में झारखंड हाइकोर्ट का दरवाजा खटखटा चुके हैं. तब उस मामले में 11 आरोपियों की गिरफ्तारी हुई थी.

Advt

इसे भी पढ़ें – हाइकोर्ट ने हेमंत सरकार को लगायी फटकार, कहा- जब लोग श्मशान पहुंचने लगते हैं, तब सरकार जागती है

Advt

Related Articles

Back to top button