न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सिमडेगा : पति की मौत के बाद खाने के भी हैं लाले, महिला ने बीडीओ से लगायी गुहार

पति हेरमन लुगुन की मौत एक साल पहले हिमाचल प्रदेश में लैंड स्लाइड में हो गयी थी.

326

Simdega: जिले के कोलेबिरा प्रखंड के बरसलोया पंचायत के सिंजाग निवासी रूबिया लुगुन इन दिनों आर्थिक तंगी से जूझ रही है. रुबिया के पांच बच्चे हैं और उनकी परवरिश में उसे काफी परेशानी हो रही है. रूबिया ने इस संबंध में सरकार से मदद की गुहार लगायी है. दरअसल सालभर पहले हिमाचल प्रदेश में लैंड स्लाइड में रूबिया के पति हेरमन लुगुन की मौत हो गयी थी. जिससे घर में खाने के भी लाले हैं.

mi banner add

इसे भी पढ़ें – भारतीय अर्थव्यवस्था को भारी नुकसान, 2 लाख लोगों का खत्म हुआ रोजगार

सालभर पहले घर भी गिर गया

रूबिया लोगों के घरों में मजदूरी करके बच्चों को पाल रही है. जिस घर में वो रहती है, वह भी सालभर पहले गिर गया. जिससे रूबिया बच्चों को लेकर अपने जीजा के घर पर रहने को मजबूर है.  पीएम आवास योजना के तहत उसका नाम प्रतिक्षा सूची में भी नहीं है. अब रूबिया के सामने आर्थिक तंगी इस तरह है कि उसके बच्चे भी पढ़ाई छोड़कर काम करने को विवश हैं. रूबिया लुगुन के पांच बच्चो में – आशा लुगुन 15 साल, निशा लुगुन 12,रेखा लुगुन 10, कृष लुगुन 8 साल व लवली लुगुन 6 साल की है. पैसों की कमी की वजह से रूबिया की बड़ी बेटी आशा लुगुन दिल्ली काम करने चली गयी है. जबकि बाकि के चारों बच्चे सिंजाग स्कूल में पढ़ते हैं.

Related Posts

बकरी बाजार मैदान में कॉम्प्लेक्स बनाने के निर्णय को रद्द करने की मांग, AAP ने मेयर को सौंपा ज्ञापन

पार्टी ने मांग की कि उस मैदान को बच्चों के खेल के मैदान-पार्क के रूप में विकसित किया जाये

इसे भी पढ़ें – फेडरल फ्रंट बनाने में जुटी ममता एनआरसी मुद्दे को भुनाने की जुगत में,  सोनिया, शरद से मिलेंगी

रूबिया लुगुन का कहना है कि घर की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से ही पूरा परिवार पिछले कई सालों से हिमचाल प्रदेश में ही मजदूरी करके अपना गुजारा कर रहे थे. लेकिन उसी दौरान हादसे में पति की मौत हो गई और हमसब वापस यहां लौट आये. साथ ही रूबिया ने कहा कि लौटने के बाद भी मुसीबत कम नवहीं हुआ. यहां हमारा घर भी गिर गया और रहने की समस्या खड़ी हो गयी. अब अपने रिश्तेदार के घर पर रहकर ही गुजारा कर रहे हैं.
रूबिया ने बीडीओ से मिलकर पीएम आवास निर्माण की गुहार लगायी है. साथ ही बच्चों की परवरिश के लिये सहयोग भी मांगा है. ताकि बच्चों का भविष्य बेहतर हो सके. वहीं गांव के मुखिया ने इस बारे में कहा कि मामले की जानकारी वरीय पदाधिकारियों को दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – बंगाल में NRC पर घमासानः बनी सरकार तो बाहर होंगे एक करोड़ अवैध बांग्लादेशी- बीजेपी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: