JharkhandLead NewsRanchi

भाइयों की कलाई में बंधेगी सखी महिलाओं की रेशम की राखियां,25 हजार राखियां बनकर तैयार

Ranchi: रक्षाबंधन के मौके पर झारखंड के बाजारों में इस बार सखी मंडल की महिलाओं द्वारा बनाई गई रेशम की राखियां भी नजर आ रही है. पहली बार राखी निर्माण कार्य से जुड़ी एसएचजी महिलाओं की रेशम के धागे से बनी राखी इस बार आकर्षण का केंद्र है. झारखण्ड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाईटी (जेएसएलपीएस ), ग्रामीण विकास विभाग के द्वारा इन ग्रामीण महिलाओं को राखी बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है. साथ ही इनके द्वारा बनाए गए राखी की ब्रांडिंग और मार्केटिंग पलाश ब्रांड के तहत की जा रही है. राज्य के 8 जिलों रांची, हजारीबाग, दुमका, गिरिडीह, रामगढ, बोकारो, धनबाद और लोहरदगा के लगभग 75 एसएचजी की 550 से अधिक महिलाएं राखी निर्माण व बिक्री कार्य से सीधे तौर पर जुड़कर अपनी उद्यमिता के अवसरों को बढ़ा रही हैं .

अब तक सखी मंडल की प्रशिक्षित दीदियों द्वारा 25,000 से अधिक आकर्षक राखियों का निर्माण किया जा चुका है. साथ ही सम्बंधित जिलों के पलाश मार्ट एवं पलाश प्रदर्शनी सह बिक्री काउंटर के माध्यम से जिला व प्रखण्ड स्तर पर इसकी बिक्री भी की जा रही है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

इसे भी पढ़ें:देश में SOLAR ENERGY क्षमता में झारखंड की हिस्सेदारी महज 0.15 फीसदी, जानिये जिलों का हाल

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

राखी बनाने में जैविक सामग्रियों का इस्तेमाल

सखी मंडल के सदस्यों के हाथ से बनी राखियाँ लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बन रही हैं. इन महिलाओं को विशेष प्रशिक्षण के तहत जैविक सामग्रियों का उपयोग करते हुए 20-25 प्रकार की राखियां बनाने की कला सिखाई गई थीं. अब अपने कला का प्रदर्शन करते हुए ये महिलाएं जैविक सामग्रियों जैसे – धान, चावल, मौली धागा, सूती धागा, रेशमी धागा, मोती, बुरादा, हल्दी, आलता आदि का उपयोग कर विभिन्न डिजाइन की राखियाँ तैयार कर रही हैं.

हजारीबाग में विशेष रूप से कपडे की राखी तैयार की गई ह, जो काफी लुभावनी एवं आकर्षक है. हस्तनिर्मित राखियों की कीमत 10रु से 280 रु तक के रेंज में रखी गई है.

इसे भी पढ़ें:जज उत्तम आनंद हत्याकांड में लखन और राहुल को उम्रकैद, 25 हजार रुपये का जुर्माना

पलाश मार्ट में उपलब्ध है पलाश राखी

जेएसएलपीएस राज्य कार्यालय (रांची) स्थित पलाश मार्ट में सखी मंडल की बहनों द्वारा निर्मित फैंसी राखियां बिक्री के लिए उपलब्ध हैं. वाजिब कीमत पर फैन्सी एवं आकर्षक राखियों की खरीदारी यहां से की जा सकती है.

झारखण्ड स्टेट लाईवलीहुड प्रमोशन सोसाईटी, ग्रामीण विकास विभाग अंतर्गत सखी मंडलों के उत्पादों को “पलाश ब्रांड” ट्रेड मार्क के जरिए मुख्यमंत्री द्वारा सितंबर 2020 में लॉन्च किया गया था.

वर्तमान में पलाश ब्रांड के अंतर्गत 29 चिन्हित कृषि एवं गैर कृषि आधारित उत्पादों को गुणवत्ता के तय मानकों के आधार पर बाज़ार में आम जन के लिए उतारा गया है.

इसे भी पढ़ें:बेरोजगारी भत्ता के पात्र कौन? यह दो साल में भी तय नहीं कर सकी झारखंड सरकार

Related Articles

Back to top button