न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : शिकायत करने आये शख्स को SI ने लात-जूतों से पीटा, छाती की पसली तोड़ी   

भुक्तभोगी का गंभीर हालत में चल रहा इलाज, उसके बेटे की भी पिटाई, कान का पर्दा फटा,

1,782

Chhatarpur : पलामू जिले के छत्तरपुर थाने में पदस्थ एसआई टुनटुन तिवारी ने शिकायत करने आये एक व्यक्ति को कमरे में बंद कर लात-जूतों से बुरी तरह पीटा और छाती पर मार कर उसकी पसलियां तोड़ दीं.

 

पिटाई से घायल अजय प्रजापति का इलाज करने वाले अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक डॉ राजेश अग्रवाल ने पसलियां टूटने की पुष्टि की.

जानकारी के अनुसार पुलिस ने अजय के नाबालिग बेटे की भी पिटाई की है जिसमें उसके कान का पर्दा फट गया है.

अजय घर का एकलौता काम करने वाला है और वह अपने खेतों में काम कर परिवार का भरण पोषण करता है. उसने अपने इलाज के लिए खेत को गिरवी तक रख दिया है.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : सात साइबर अपराधी दबोचे गये; कई स्मार्टफोन, सिम, एटीएम बरामद

ये है पूरा मामला

भुक्तभोगी अजय ने बताया कि उसके चाचा विलास प्रजापति के साथ घर में जमीन के हिस्से को लेकर पिछले कई वर्षों से झगड़ा चल रहा था.

पंचायत ने मामले को सुलझा दिया था लेकिन कुछ दिन विलास ने घर को कब्जाने की नीयत से कच्चे दीवाल के अंदर ही अंदर पक्की का दीवार का निर्माण करा लिया.

SMILE

इस बात को लेकर अजय और विलास में कहासुनी हुई. इसके बाद 30 जून को अचानक अजय के घर पर पुलिस पहुंची. अजय घर पर नहीं था.  अजय ने कहा, “मेरा नाबालिग बेटा मिला, पुलिस ने निर्ममता से उसकी पिटाई कर दी. मेरे पिता बचाने गये तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें भी डांट-डपट दिया.”

अजय का आरोप है कि पुलिस ने उसके बेटे संतोष को इतना पीटा की उसके कान खराब हो गये. इस बात की सूचना मिलने पर वह थाना गया तो उसके कागजात देखे बिना एसआइ टुनटुन कुमार ने उन्हें कमरे में बंद कर दिया.

अजय का कहना है, “बंद कमरे में एसआइ ने कहा कि तुम उग्रवादी हो और मुझे 20 हजार रुपये लाकर दो. इसके बाद एसआइ न लाठी व पैर के जूते से मेरी बुरी तरह पिटाई कर दी.”

इसे भी पढ़ें : 107 वर्षीया वेजुबेन मेहता ने किया संथारा, धनबाद जिले में ऐसी पहली घटना

डीएसपी से शिकायत की, दो दिनों में कोई कार्रवाई नहीं

अजय ने मामले की लिखित शिकायत अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी छत्तरपुर से दो दिन पूर्व की है. अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी शम्भू कुमार सिंह ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है और दोषी पाये जाने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की जायेगी.

हालांकि दिनों में पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है. पुलिस के इस व्यवहार से स्थानीय लोगों में आक्रोश है.

इसे भी पढ़ें : साहेबगंजः गैंगरेप के विरोध में बंद रही दुकानें, दोषियों की गिरफ्तारी के लिए लोगों का प्रदर्शन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: