JharkhandPalamu

पलामू : शिकायत करने आये शख्स को SI ने लात-जूतों से पीटा, छाती की पसली तोड़ी   

विज्ञापन

Chhatarpur : पलामू जिले के छत्तरपुर थाने में पदस्थ एसआई टुनटुन तिवारी ने शिकायत करने आये एक व्यक्ति को कमरे में बंद कर लात-जूतों से बुरी तरह पीटा और छाती पर मार कर उसकी पसलियां तोड़ दीं.

 

advt

पिटाई से घायल अजय प्रजापति का इलाज करने वाले अनुमंडलीय अस्पताल के प्रभारी चिकित्सक डॉ राजेश अग्रवाल ने पसलियां टूटने की पुष्टि की.

जानकारी के अनुसार पुलिस ने अजय के नाबालिग बेटे की भी पिटाई की है जिसमें उसके कान का पर्दा फट गया है.

अजय घर का एकलौता काम करने वाला है और वह अपने खेतों में काम कर परिवार का भरण पोषण करता है. उसने अपने इलाज के लिए खेत को गिरवी तक रख दिया है.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह : सात साइबर अपराधी दबोचे गये; कई स्मार्टफोन, सिम, एटीएम बरामद

adv

ये है पूरा मामला

भुक्तभोगी अजय ने बताया कि उसके चाचा विलास प्रजापति के साथ घर में जमीन के हिस्से को लेकर पिछले कई वर्षों से झगड़ा चल रहा था.

पंचायत ने मामले को सुलझा दिया था लेकिन कुछ दिन विलास ने घर को कब्जाने की नीयत से कच्चे दीवाल के अंदर ही अंदर पक्की का दीवार का निर्माण करा लिया.

इस बात को लेकर अजय और विलास में कहासुनी हुई. इसके बाद 30 जून को अचानक अजय के घर पर पुलिस पहुंची. अजय घर पर नहीं था.  अजय ने कहा, “मेरा नाबालिग बेटा मिला, पुलिस ने निर्ममता से उसकी पिटाई कर दी. मेरे पिता बचाने गये तो पुलिसकर्मियों ने उन्हें भी डांट-डपट दिया.”

अजय का आरोप है कि पुलिस ने उसके बेटे संतोष को इतना पीटा की उसके कान खराब हो गये. इस बात की सूचना मिलने पर वह थाना गया तो उसके कागजात देखे बिना एसआइ टुनटुन कुमार ने उन्हें कमरे में बंद कर दिया.

अजय का कहना है, “बंद कमरे में एसआइ ने कहा कि तुम उग्रवादी हो और मुझे 20 हजार रुपये लाकर दो. इसके बाद एसआइ न लाठी व पैर के जूते से मेरी बुरी तरह पिटाई कर दी.”

इसे भी पढ़ें : 107 वर्षीया वेजुबेन मेहता ने किया संथारा, धनबाद जिले में ऐसी पहली घटना

डीएसपी से शिकायत की, दो दिनों में कोई कार्रवाई नहीं

अजय ने मामले की लिखित शिकायत अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी छत्तरपुर से दो दिन पूर्व की है. अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी शम्भू कुमार सिंह ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है और दोषी पाये जाने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई की जायेगी.

हालांकि दिनों में पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है. पुलिस के इस व्यवहार से स्थानीय लोगों में आक्रोश है.

इसे भी पढ़ें : साहेबगंजः गैंगरेप के विरोध में बंद रही दुकानें, दोषियों की गिरफ्तारी के लिए लोगों का प्रदर्शन

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button