JharkhandRanchi

स्पैरो सॉफ्टेक को शो-कॉज, 3 दिन में जवाब नहीं देने पर टर्मिनेशन, ब्लैकलिस्टेड होगी कंपनी

  • नगर विकास विभाग की एजेंसी सूडा ने भेजा शो-कॉज नोटिस, कहा- बार-बार चेतावनी के बाद भी लापरवाही और अनियमितता जारी

Ranchi  :  रांची नगर निगम सहित राज्य के 20 नगर निकायों से राजस्व वसूल कर रही आउटसोर्सिंग कंपनी स्पैरो सॉफ्टेक को नगर विकास विभाग ने शो-कॉज किया है. यह शो-कॉज कंपनी के अपने कार्यों में लगातार की जा रही अनियमितता और लापरवाही को देख विभाग ने किया है.

Jharkhand Rai

विभाग की एजेंसी राज्य शहरी विकास अभिकरण (सूडा) ने चेतावनी दी गयी है कि 3 दिन के अंदर कंपनी संतोषप्रद जवाब नहीं देती है, तो उसके लापरवाही के कारण जो राजस्व की क्षति हुई है, उसे देख कंपनी को ब्लैकलिस्टेड और टर्मिनेट करने की कार्रवाई शुरू की जायेगी.

नोटिस में विभाग ने कुल 16 बिंदुओं पर आपत्ति जतायी है. इनमें से कुछ बिंदु पर कंपनी को पहले भी शो-कॉज किया जा चुका है. विभाग का मानना है कि कंपनी नें उचित सुधार नही किया.

इसे भी पढ़ें – केंद्रीय शिक्षा मंत्री के नाम हेमंत सोरेन का खुला पत्र, कहा- संक्रमण देख जनहित में नीट-JEE परीक्षा करें स्थगित

Samford

जिन बिंदुओं पर आपत्ति जतायी गयी है उसमें कुछ महत्वपूर्ण ये हैं  

  1. गिरिडीह नगर निगम के Login ID पर uploaded कागजात गायब है. इस संबंध में जुलाई 2019 में एजेंसी के प्रतिनिधि नें त्रुटि के समाधान हेतु निकाय का विजिट भी किया था. लेकिन स्थिति में कोई सुधार नहीं हुआ. स्थिति जस की तस बनी है.
  2. कई निकायों में Tax Collector ID में एक ही फ्लोर बार बार repeat होने के कारण मांग में अनावश्यक वृद्धि हो रही है. इससे होल्डिंग टैक्सधारी द्वारा भुगतान लंबित रख् गयी है.
  3. कई निकायों के अनेकों होल्डिंग धारकों का वर्तमान वित्तीय वर्ष 2020-21 की मांग, नो ड्यूज लिखा गया है. जबकि वास्तव में उनके द्वारा भुगतान नही किया गया है. इससे वे परेशान है. इससे भी राजस्व को हानि हो रही है.
  4. राज्य के नगर निकाय परिसर में अवस्थित जन सुविधा केन्द्र का जियो फेन्सिंग को बिना अनुमति के एजेंसी द्वारा हटा दिया गया है. इससे राजस्व के दुरुपयोग की पूरी संभावना है.
  5. सूडा पोर्टल से प्रोपर्टी रिपोर्ट देखने से पता चलता है कि कंपनी के दिखाये कुल टैक्स कलेक्शन सने डाटा अलग है.
  6. बगैर सूचना एवं अनुमति के स्टेट डाटा सेंटर का एंटीवायरस एजेंसी के द्वारा निष्क्रिय किया गया. जो कि अपराध की श्रेणी में आता है.
  7. बगैर सूचना व जानकारी कंपनी ने स्टेट डाटा सेंटर सर्वर की तस्वीर ली गयी. जो कि अपराध की श्रेणी में आता है.
  8. इसे भी पढ़ें – हाइमास्ट लाइट के लिए जल्द निकलेगा टेंडर, 2016-17 के बाद से राज्य में नहीं लगी है हाइमास्ट लाइट

20 निकायों में राजस्व वसूली और सभी 51 निकायों में ऑनलाइन वसूली प्रणाली कंपनी के जिम्मे

बता दें कि वर्तमान में स्पैरो सॉफ्टेक राज्य के 20 नगर निकायों में 2 क्लस्टर राजस्व संग्रहण एजेंसी के तौर पर काम कर रही है. साथ ही राजस्व संग्रहण हेतु MIS Database एवं ऑनलाइन संग्रहण प्रणाली की देख रेख भी राज्य के सभी 51 नगर निकायों में इसी के जिम्मे है. रांची को छोड़ 20 निकायों में सूडा के माध्यम से टेंडर प्रक्रिया में चयनित होने के बाद ये कंपनी टेक्स कलेक्शन का कार्य कर रही है.

इसे भी पढ़ें – नगर विकास विभाग ने 54 पदों के लिए फिर निकाली वैकेंसी, 5670 पुराने आवेदकों की लौटेगी फीस 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: