Lead NewsNationalWest Bengal

ममता सरकार को झटका: हाई कोर्ट ने मांग ली 5 रेप केसों की स्टेटस रिपोर्ट, पीड़ितों की सुरक्षा का आदेश

Kolkata : पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं. हाल ही में राज्य में हुए 5 रेप केसों की सीबीआई जांच की मांग को लेकर कोलकाता हाई कोर्ट में अर्जी दायर की गई है.
इस अर्जी पर सुनवाई करते हुए कोर्ट ने केस डायरी और स्टेटस रिपोर्ट की मांग की है. इसके अलावा सभी मामलों में पीड़ितों और उनके गवाहों को अगली सुनवाई तक के लिए पुलिस प्रोटेक्शन दिए जाने का आदेश दिया है. अदालत ने केस की अगली सुनवाई के लिए 26 अप्रैल की तारीख तय की है.
बीते कुछ सप्ताह में पश्चिम बंगाल में रेप की 5 वीभत्स घटनाएं सामने आई हैं. इनमें से एक केस नादिया का है, जिसमें नाबालिग लड़की के रेप और मर्डर में टीएमसी नेता के बेटे का नाम भी सामने आया था.

इसे भी पढ़ें : जानिए, झारखंड में बच्चों ने कैसे की ऑनलाइन पढ़ाई, 44 फीसदी तो पढ़ाई कर ही नहीं सके

इन जिलों में हुईं घटनाएं

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

इसके अलावा दक्षिण 24 परगना जिले में रेप की दो घटनाएं हुई हैं. एक घटना पश्चिम मिदनापुर जिले के पिंगला की है, जबकि पश्चिम मिदनापुर में एक घटना हुई है. इन मामलों को लेकर हाई कोर्ट की महिला वकीलों ने जनहित याचिका दायर की थी. अर्जी में मांग की गई थी कि इन केसों की जांच सीबीआई से या फिर पश्चिम बंगाल से बाहर की किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराई जानी चाहिए.

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

इसे भी पढ़ें : देवघर: भाजपा नगर कमेटी ने जलप्रहरी समीर अंसारी को किया गया सम्मानित

ज्यादातर पीड़िताएं नाबालिग

इस केस की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव और जस्टिस राजर्षि भारद्वाज ने मंगलवार को सुनवाई के दौरान कहा कि इन घटनाओं में ज्यादातर पीड़िता नाबालिग हैं. उन्होंने कहा कि इन मामलों में गंभीर आरोप लगाए गए हैं और प्रशासन को इन मामलों की स्टेटस रिपोर्ट दाखिल करनी चाहिए. इसके अलावा अगली सुनवाई में केस डायरी भी अदालत के समक्ष पेश की जाए.

इसे भी पढ़ें : गिरिडीह कांग्रेस का संवाद सम्मेलन संपन्न, समर्थकों से पंचायत चुनाव में उतरने की अपील

Related Articles

Back to top button