Crime NewsJharkhandRamgarh

रामगढ़ का शोभा हत्याकांड: 20 दिनों के बाद भी नहीं हुई हत्यारे की गिरफ्तारी, स्टूडेंट्स ने किया प्रदर्शन  

विज्ञापन

Ramgarh:  शोभा हत्याकांड रामगढ़ पुलिस के लिए अब गले की हड्डी बनती जा रही है. 20 दिनों के बाद भी रामगढ़ पुलिस को अब तक कोई सफलता नहीं मिल पायी है. हत्याकांड का विरोध अब आंदोलन का रूप ले रहा है. इसी क्रम में रामगढ़ कॉलेज के सैकड़ों छात्र-छात्राओं ने रामगढ़ कॉलेज से सुभाष चौक तक सोमवार को विरोध प्रदर्शन किया और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी की.

रोड मार्च निकाला और शोभा के हत्यारों का जल्द पकड़ने की गुहार लगायी. छात्र संघ के नेताओं ने पुलिस प्रशासन के विरोध में जमकर नारेबाजी की.

उनका कहना था कि पुलिस प्रशासन के सुस्त रवैया के कारण अब तक हत्यारे को पकड़ा नहीं जा सका है.

advt

इसे भी पढ़ेंः सीएम रघुवर दास  स्मृति ईरानी से मिले,  झारखंड में  NIFT के स्थायी परिसर का होगा शिलान्यास  

रोड मार्च में मृतक शोभा की छोटी बहन शामिल हुई

इस रोड मार्च में मृतक शोभा की छोटी बहन कोमल भी शामिल हुई और हत्यारों को पकड़ने के लिए पुलिस से गुहार लगायी. कोमल ने पुलिस व्यवस्था पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस हत्यारे को पकड़ना ही नहीं चाहती है. आगे उसने बताया कि पुलिस को सारे सबूत दे दिये गये हैं, जैसे सीसीटीवी के फुटेज और उसके मोबाइल में आए हुए सभी मैसेज. उसके बावजूद अब तक हत्यारे के पास पुलिस नहीं पहुंच पायी है.

इसे भी पढ़ेंः सांसद संजय सेठ के निर्देश पर आनन-फानन में बनी सड़क, अब गुणवत्ता पर स्थानीय लोग उठा रहे सवाल 

 क्या है मामला ?

22 मई को शहर की साहू कॉलोनी में शोभा (20) की पूरी तरह से जली हुई लाश उसके घर के आंगन में मिली थी. जिस वक़्त यह हादसा हुआ था उस समय शोभा अपने घर में अकेली ही थी. स्थानीय लोगों ने और परिजनों ने यह कयास लगाया था कि खाना बनाने के दौरान उसके कपड़े में आग लगी और वह जिंदा जल गई.

घर बंद था तो किसी ने भी उसकी चीख पुकार नहीं सुनी और उसकी मौत हो गयी. बाद में मृतका के परिजनों को पता चला कि यह हादसा नहीं बल्कि साजिश के तहत की गयी हत्या है. इस वारदात को तब अंजाम दिया गया तब शोभा की मां चुन्नी देवी हॉस्पिटल में थी और उसके पिता मनोज भी नहीं थे.

शोभा की छोटी बहन भी कोचिंग सेंटर गई थी. शोभा की लाश उसकी बहन ने ही सबसे पहले देखी, जब वह कोचिंग सेंटर से लौटी. इस जानकारी के बाद पूरे शहर में खलबली है.

 26 मई को पिता ने दिया था आवेदन

26 मई को मृतिका के पिता मनोज कुमार गुप्ता ने रामगढ़ थाने में आवेदन देकर साहू कॉलोनी के ही एक युवक पर हत्या का संदेह जताया था. पुलिस ने अस्वाभाविक मौत को हत्या में तब्दील करते हुए जांच भी शुरू कर दी है.

पुलिस को सीसीटीवी कैमरे के फुटेज और शोभा के मोबाइल में आए एक युवक के मैसेज की कॉपी सौंपी गई है. पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में पता चला कि मृतिका की जबान बाहर निकली हुई है जो यह संकेत है कि हत्या गला दबाकर की गयी और उसके बाद साक्ष्य छुपाने के लिए उसे जला दिया गया.

इसे भी पढ़ेंः लातेहारः रामचरण मुंडा की भूख से कथित मौत मामले में डीसी को शो कॉज

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close