National

एसएचओ आत्महत्या का मामलाः राजस्थान सीएम गहलोत के ओएसडी से सीबीआइ ने की पूछताछ

New Delhi: सीबीआइ ने राजस्थान के पुलिस अधिकारी विष्णुदत्त विश्नोई की चुरु में 23 मई को कथित आत्महत्या के मामले में राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के ओएसडी, देव राम सैनी से मंगलवार को पूछताछ की. बता दें कि दिल्ली से सीबीआइ की स्पेशल क्राइम ब्रांच की एक टीम राजगढ़ के थाना प्रभारी (एसएचओ), विश्नोई की मौत के सिलसिले में बयान दर्ज करने के लिए जयपुर में मौजूद है. एसएचओ का शव चुरु में उनके आधिकारिक निवास में पंखे से लटकता हुआ मिला था.

यह कदम ऐसे समय में उठाया जा रहा है जब राजस्थान सरकार सचिन पायलट की बगावत और उनको उपमुख्यमंत्री पद से बर्खास्त किए जाने के बाद सियासी संकट का सामना कर रही है. हालांकि, सूत्रों ने स्पष्ट किया है कि एजेंसी इस मामले में पेशेवर तरीके से जांच कर रही है जो उसे खुद राज्य सरकार ने सौंपी है.

advt

इसे भी पढ़ेंःलालजी टंडन: सरकार से नाराज हुए तो सदन में नहीं पढ़ा था पूरा अभिभाषण, 40 पन्नों को 1 मिनट में पूरा कर दिया था

कांग्रेस विधायक से भी पूछताछ

एजेंसी ने सोमवार की शाम कांग्रेस विधायक कृष्णा पूनिया से उनके जयपुर स्थित घर में तीन घंटे तक पूछताछ की थी. सूत्रों ने कहा कि मामले के विभिन्न पहलुओं को जानने के लिए लोगों से पूछताछ की जा रही है और इसका यह मतलब नहीं है कि वे आरोपी हैं क्योंकि अंतिम तस्वीर जांच पूरी होने के बाद ही साफ हो पाएगी.

राजस्थान सरकार ने मामले की जांच सीबीआइ को सौंपी है. उन्होंने बताया कि विश्नोई के भाई ने राजस्थान पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनपर अत्यधिक दबाव था जिस कारण उन्होंने यह कदम उठाया.

इसे भी पढ़ेंःCoronaUpdate: जमशेदपुर में 10 साल के बच्चे समेत दो की मौत, राज्य में अबतक 62 लोगों की गयी जान

विश्नोई के दो सुसाइट नोट

विश्नोई के पास से दो सुसाइड नोट बरामद किए गए थे- एक उनके माता-पिता के नाम और दूसरा जिले के पुलिस अधीक्षक के नाम.

पुलिस अधीक्षक के नाम लिखे सुसाइड नोट में, विश्नोई ने कहा कि वह उनपर डाले जा रहे दबाव को नहीं झेल पा रहे हैं. इसमें उन्होंने यह भी कहा था कि उन्होंने राजस्थान पुलिस को अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश की. मामले को लेकर कथित व्हाट्सऐप चैट का एक स्क्रीनशॉट भी वायरल हो गया है जिसमें विश्नोई अपने कार्यकर्ता दोस्त से कह रहे हैं कि वह गंदी राजनीति में फंस गए हैं.

बता दें कि भाजपा और बसपा के नेताओं का आरोप है कि अपनी इमानदारी और मेहनत के लिए जाने जाने वाले अधिकारी पर कांग्रेस विधायक पूनिया ने दबाव बनाया. हालांकि पूनिया इस आरोप से इनकार करती रही हैं. पूनिया राजस्थान में सदुलपूर विधानसभा सीट का प्रतिनिधित्व करती हैं.

इसे भी पढ़ेंःबोकारो स्टील प्लांट में कोरोना की एंट्री

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: