National

शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तारः 20 कैबिनेट-आठ राज्यमंत्री ने ली शपथ, 12 सिंधिया समर्थक को मिला मौका

विज्ञापन
Advertisement

Bhopal: मध्यप्रदेश में सरकार बनने के 100वें दिन सीएम शिवराज ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है. गुरुवार को शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली भाजपा नीत सरकार के मंत्रिमंडल का विस्तार हुआ. जिसमें 28 मंत्रियों को शपथ दिलाई गई. 28 मंत्रियों में 20 कैबिनेट और 8 राज्य मंत्री है. इन नए मंत्रियों में 12 ज्योतिरादित्य सिंधिया समर्थक भी शामिल हैं, जिनके मार्च में कांग्रेस से इस्तीफे के बाद राज्य की कमलनाथ सरकार गिर गई थी.

इसे भी पढ़ेंःCoronaEffect: बजाज ऑटो की जून में 31% बिक्री घटकर 2,78,097 यूनिट रही

 

advt

12सिंधिया समर्थक को मंत्री पद

राजभवन में मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर आयोजित समारोह में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने 20 कैबिनेट मंत्रियों और आठ राज्य मंत्रियों को शपथ दिलाई. जिनमें से 12 ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक है. इनमें गोपाल भार्गव, विजय शाह, यशोधरा राजे सिंधिया समेत कई बड़े नेता शामिल रहे.

सिंधिया समर्थक जिन विधायकों को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है, इनमें से कोई भी फिलहाल विधानसभा का सदस्य नहीं है. संभवत: देश में पहली बार किसी प्रदेश के मंत्रिमंडल में इतनी बड़ी तादाद में गैर विधायकों को शामिल किया गया है.

शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिये पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर विशेष तौर पर गुरुवार सुबह भोपाल पहुंचे. शपथ ग्रहण समारोह में कोविड-19 को लेकर दिशा-निर्देशों का पालन किया गया.

इसे भी पढ़ेंःPAYTM का नाम आते ही क्यों चुप्पी साध लेती है मोदी सरकार, क्या है रिश्ता!

सरकार के सौवें दिन मंत्रिमंडल विस्तार

बता दें कि ज्योतिरादित्य सिंधिया के कांग्रेस छोड़ने और उनके समर्थकों के पार्टी और विधायक पद से इस्तीफा देने के कारण मध्य प्रदेश में कमलनाथ की सरकार गिर गयी थी. जिसके बाद शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को सीएम पद की शपथ ली थी, तब कैबिनेट में सिर्फ 6 मंत्री ही शामिल हुए थे.

जबकि विधानसभा में कुल 230 सदस्य हैं. इस लिहाज से अधिकतम 35 विधायक मंत्री बनाए जा सकते हैं. ऐसे में शिवराज मंत्रिमंडल का विस्तार काफी दिनों से अटका था. इसके पीछे कई वजह रही. एक तो बीजेपी में मंत्री पद को लेकर मंथन चल रहा था, दूसरी ओर मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन की तबीयत खराब थी. बुधवार (1 जुलाई) को ही उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने मध्य प्रदेश के राज्यपाल के तौर पर अतिरिक्त कार्यभार संभाला है. उसके दूसरे दिन कैबिनेट का विस्तार किया गया.

इसे भी पढ़ेंःचीनी मीडिया का दावाः गलवान पर पीछे हटने को राजी चीन, 72 घंटों तक एक-दूसरे पर रखेंगे नजर

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: