National

शिवसेना का मोदी-शाह पर हमलाः कहा- इतनी स्तरहीन राजनीति कभी किसी ने नहीं की

विज्ञापन

Mumbai: दिल्ली में जेएनयू छात्रों पर हुए हमले को लेकर शिवसेना ने बीजेपी पर निशाना साधा है. हमले की पृष्ठभूमि में मंगलवार को शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह पर हमला बोला और आरोप लगाया कि जो वह चाहते थे, वह हो रहा है.

इसे भी पढ़ेंःराज्यपाल के अभिभाषण के बाद 4210.08 करोड़ का अनुपूरक बजट पेश

‘विभाजनकारी राजनीति’ देश के लिए खतरनाक

शिवसेना ने मुखपत्र सामना के संपादकीय में लिखा, ‘‘इतनी निकृष्ट राजनीति कभी किसी ने नहीं की.’’ इसमें कहा कि भाजपा संशोधित नागरिकता कानून पर ‘हिंदू-मुस्लिम दंगे’ होते देखना चाहती थी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

advt
शिवसेना का मुखपत्र ‘सामना’

सामना में लिखा गया है कि चूंकि सीएए के मुद्दे पर भाजपा अलग-थलग पड़ गई, इसलिए अब कई चीजें ‘बदले की भावना’ से हो रही है.
जेएनयू के छात्रों पर हमले की तुलना 26/11 मुंबई हमले से करते हुए शिवसेना ने कहा कि ‘विभाजनकारी राजनीति’ देश के लिए खतरनाक है.

जेएनयू हमले के खिलाफ होता प्रदर्शन (फाइल फोटो)

संपादकीय में कहा गया है कि केंद्रीय गृह मंत्रालय का जेएनयू हमले के अज्ञात हमलावरों के खिलाफ मामला दर्ज करने का फैसला हास्यास्पद है. इसमें कहा, ‘चेहरे पर नकाब ओढ़कर जेएनयू में प्रवेश करने वाले लोग अज्ञात नहीं हैं.’

इसे भी पढ़ेंःलाला के संरक्षण में राज्य के तीन रास्ते हो रहा बंगाल के अवैध कोयला का कारोबार

देश के गृह मंत्री को घर-घर पर्चे बांटने की नौबत क्यों आयी

संपादकीय के मुताबिक, ‘‘विद्यापीठ और महाविद्यालयों को रक्तरंजित कर, विद्यार्थियों से मारपीट कर और उससे जली होली पर सत्ता की रोटी सेंकी जा रही है. इतनी निकृष्ट राजनीति कभी किसी ने नहीं की है. ‘जेएनयू’ की हिंसा का प्रतिसाद देशभर में देखने को मिलने लगा है. मोदी-शाह को जो चाहिए, वही होता दिखाई दे रहा है. देश संकट में है!’’

adv
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (फाइल फोटो)

संपादकीय में आगे कहा गया है, ‘‘अमित शाह जब राहुल और प्रियंका गांधी पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाते हैं, तब एक प्रकार से वे स्वीकार करते हैं कि सरकार के एक कानून के विरोध में जनमत तैयार करने और लोगों को रास्ते पर उतारने की ताकत राहुल और प्रियंका गांधी में है. दूसरी बात ये है कि गांधी भाई-बहन ने दंगे भड़काए कि नहीं, ये नहीं कहा जा सकता. लेकिन, देश के गृहमंत्री और उनकी पार्टी के लिए घर-घर जाकर सीएए के पर्चे बांटने की नौबत जरूर आ गई है.’’

इसे भी पढ़ेंःराज्यसभा चुनाव: #BJP को लग सकता है बड़ा झटका, यूपीए के पास दिख रहा 55 विधायकों का समर्थन

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button