Lead NewsNational

औरंगाबाद का नाम बदल कर संभाजी नगर करने को लेकर शिवसेना और कांग्रेस आमने-सामने

महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी गठबंधन में शामिल हैं शिवसेना और कांग्रेस

Mumbai : महाराष्ट्र में महा विकास अघाड़ी गठबंधन की सरकार तो बन गई, लेकिन बार-बार सरकार के घटक दलों में किसी न किसी मुद्दे को लेकर आपस में विवाद होता ही रहता है. अब ताजा विवाद औरंगाबाद (Aurangabad) शहर का नाम बदलने को लेकर उठ खड़ा हुआ है. इस मामले में शिवसेना (Shiv Sena) और कांग्रेस (Congress) के बीच तनातनी हो गयी है.कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने कहा है कि अगर नाम बदला तो सरकार खतरे में पड़ जाएगी.

कांग्रेस ने शिवसेना को याद दिलाया गठबंधन धर्म

गठबंधन सरकार का नेतृत्व कर रही शिव सेना औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजी नगर (Sambhaji Nagar) करने की योजना बना रही है. इस पर कांग्रेस नेता संजय निरूपम (Sanjay Nirupam) ने शिवसेना को गठबंधन धर्म ओर कॉमन मिनिमम प्रोग्राम की याद दिला दी.

इसे भी पढ़ें :ऐसे तो खत्म हो जाएगा पुलिस का डर: अतिक्रमण से रोकने पर बीडीओ को पीटा, डीजे बंद कराने पर दारोगा से मारपीट

advt

भाजपा ने कहा शिवसेना और कांग्रेस की मिलीभगत’

वहीं, औरंगाबाद के पूर्व सांसद व शिवसेना नेता चंद्रकांत खैरे ने कहा कि कांग्रेस के विरोध का कोई मतलब नहीं है.उनका यह क्षणिक विरोध है.कांग्रेस के लोग सरकार छोड़कर कहीं नहीं जायेंगे.इस पर भाजपा ने चुटकी ली कि यह शिवसेना और कांग्रेस की मिलीभगत है, क्योंकि औरंगाबाद मनपा का चुनाव सिर पर है.इधर, मनसे ने नासिक में नाम बदलने के समर्थन में प्रदर्शन किया।

मनपा का चुनाव आते ही होता है नाम को लेकर नाटक

दरअसल, औरंगाबाद मनपा का चुनाव होने वाला है.वहां शिवसेना सत्ता में है.जब भी औरंगाबाद मनपा के चुनाव आते हैं, तब शहर का नाम बदलने का मसला सामने आता है.अब फिर शिवसेना ने इस मसले को गरमा दिया है.इस पर गत दिनों महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोरात ने अपनी कड़ी नाराजगी व्यक्त की थी.

इसे भी पढ़ें :रांची के बिशप वेस्टकोट स्कूल में पढ़े सीमांत कुमार सिंह कर्नाटक में बने ACB चीफ

 

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: