Crime NewsFashion/Film/T.VLead NewsNational

पॉर्नोग्राफी मामले में शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को 14 दिनों की जेल कस्टडी में भेजा

एप्पल स्टोर से हाट्शाट को मिले 1.64 करोड़ रुपये मिले हैं

Mumbai : पोर्नोग्राफी मामले में अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को 14 दिनों की जेल कस्टडी में भेज दिया गया है. मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने राज कुंद्रा को 19 जुलाई की रात में गिरफ्तार किया था. राज कुंद्रा पर पोर्नोग्राफिक फिल्में बनाने का आरोप है. इसके बाद कोर्ट ने पहले राज कुंद्रा को 23 जुलाई तक पुलिस हिरासत का आदेश दिया. उसके बाद फिर उनकी हिरासत बढ़कर 27 जुलाई तक हुई. आज कोर्ट ने उन्हें जेल कस्टडी में भेज दिया है.

इसे भी पढ़ें :रांची जिला बार एसोसिएशन की बैठक, एडवोकेट प्रोटेक्शन एक्ट लागू करने की मांग

पुलिस ने क्या कहा कोर्ट में

मुंबई पुलिस ने कोर्ट में कहा कि राज कुंद्रा के सिटी बैंक और कोटक महिंद्रा बैंक के डेबिट एकाउंट फ्रीज़ कर दिए गए है. कोटक महिंद्रा बैंक में 1 करोड़ 13 लाख रुपये जमा है. क्राइम ब्रांच ने इस केस से जुड़े तमाम उन विक्टिम्स से अपील की है जो अभी तक सामने नहीं आये है. एक विक्टिम 26 जुलाई को क्राइम ब्रांच के सामने आई है और उसने अपना स्टेटमेंट भी क्राइम ब्रांच को दिया है.

advt

इसे भी पढ़ें :Jharkhand: पावर गैलरी में नोटों के खेल पर सिर्फ बयानबाजी, वक्त पर एक्शन क्यों नहीं?

फॉरेन ट्रांसिक्शन्स से जुड़ी फाइल्स मिली

पुलिस ने एप्पल स्टोर से हाट्शाट की जानकारी माँगी तो पता चला इससे 1.64 करोड़ रुपये मिले है. गूगल से अभी पेमेंट की जानकारी आनी बाकी है. 24 जुलाई को जो रेड राज कुंद्रा के ऑफिस पर की गई उसमे फॉरेन ट्रांसिक्शन्स से जुड़ी फाइल्स मिली है.

राज कुंद्रा के मोबाइल और रायन के Mac Book से Hotshots के रेवेन्यू और पेमेंट्स से जुड़े चैट्स मिले है.

कुंद्रा सहित 10 लोगों को किया जा चुका था गिरफ्तार

आपको बता दें कि इस मामले में अब तक कई गिरफ्तारियां हो चुकी हैं. मुंबई पुलिस ने अब तक राज कुंद्रा सहित 10 लोगों को पोर्न फिल्मों के निर्माण में कथित संलिप्तता और उन्हें मोबाइल ऐप के माध्यम से प्रसारित करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.

ये मामला इसी साल फरवरी में सामने आया. एक एक्ट्रेस ने मुंबई पुलिस के पास केस दर्ज कराया था. राज कुंद्रा पर आरोप है कि उन्होंने लंदन की एक कंपनी के साथ गठजोड़ किया था, जो एक मोबाइल ऐप हॉटशॉट्स के माध्यम से अश्लील कंटेंट स्ट्रीमिंग में शामिल थी.

इसे भी पढ़ें :विधायक खरीद-फरोख्त मामलाः जनहित याचिका दाखिल कर सीबीआई जांच की मांग

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: