Fashion/Film/T.VLead NewsNational

पुलिस के सामने ही पति Raj Kundra पर चीख पड़ीं थी शिल्पा, कहा- ‘क्यों किया ये सब…’

Mumbai : पोर्नोग्राफी मामले में फंसे एक्ट्रेस शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा (raj kundra) इस वक्त पुलिस कस्टडी में हैं. बिजनेसमैन राज कुंद्रा पर अश्लील फिल्में बनाने और उन्हें अलग-अलग ऐप पर अपलोड करने का आरोप है. वहीं इस खबर के सामने आने के बाद शिल्पा शेट्टी (shilpa shetty) पर भी कई तरह के सवाल उठने लगे थे. वहीं 23 जुलाई को राज कुंद्रा के घर की तलाशी लेने और शिल्पा शेट्टी से पूछताछ करने के लिए मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच उनके जुहू स्थित घर पहुंची. इस दौरान शिल्पा को पुलिस के तमाम सवालों का सामना करना.

इसे भी पढ़ें : Tokyo Olympics: मेंस हॉकी टीम ने स्पेन को 3-0 से हराया, बॉक्सर लवलीना बोर्गोहेन ने पदक की उम्मीद जगाई

कई एंडोर्समेंट और बिजनेस डील्स हाथ से निकले

वहीं जब राज कुंद्रा को लेकर क्राइम ब्रांच शिल्पा के पास पहुंची तो, एक्ट्रेस का रिएक्शन देखने लायक था. सूत्रों के मुताबिक, राज कुंद्रा को देखते ही शिल्पा जोर से चीख पड़ीं. इसके बाद एक्ट्रेस ने अपने पति से कहा कि इस ‘हमारे पास ऊपर वाले का दिया सब कुछ है तो फिर ऐसी कौन सी जरूरत थी, जो ये सब करना पड़ा ? इससे परिवार का नाम भी खराब हुआ बदनामी भी हुई. हमारे हाथ से कई एंडोर्समेंट और बिजनेस डील्स निकल चुके हैं.’
बता दें कि न्यूड फिल्मों के कारोबार के सिलसिले में पुलिस ने शिल्पा शेट्टी के घर जाकर उनसे पूछताछ की थी.

advt

इसे भी पढ़ें : Glenmark Life Sciences समेत आज से खुले ये दो आईपीओ, जानिए निवेश करने के लिए ठीक है या नहीं?

पोर्नोग्राफी को लेकर काफी सख्त कानून

बता दें कि भारत में पोर्नोग्राफी को लेकर काफी सख्त कानून है. इसे रोकने के लिए देश में एंट्री पोर्नोग्राफी लॉ बनाया गया है. इस लॉ के अंदर आप किसी दूसरों की अश्लील वीडियो या फोटो शेयर नहीं कर सकते और ना ही इसे किसी साइट पर पब्लिश कर सकते हैं. भारत में ये अपराध माना जाता है.

इसे भी पढ़ें : विधायक खरीद-फरोख्त मामलाः जनहित याचिका दाखिल कर सीबीआई जांच की मांग

अधिक से अधिक इतने साल की होगी सजा

वहीं राज कुंद्रा पर ये दोनों तरह के आरोप हैं. इसलिए उन पर आरोप साबित होने के बाद, इन्हीं कानून के आधार पर कार्रवाई होगी. ऐसे में राज कुंद्रा के खिलाफ आईटी एक्ट और आईपीसी की धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. अगर उनपर लगे सारे आरोप सच साबित होते हैं तो उन्हें 5 से 7 साल तक की सजा हो सकती है. उन्हें ज्यादा से ज्यादा 10 साल जेल में काटने पड़ सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : Rims News: आईकार्ड दिखाने पर ही डॉक्टर व स्टाफ को मिलेगी एंट्री, नहीं दिखाने पर एबसेंट होने के साथ कटेगी सैलरी

10 लाख रुपये तक जुर्माना भी

ऐसे मामलों में आईटी(संसोधन) एक्ट 2008 की धारा 67 (ए) और आईपीसी की धारा 292, 293, 294, 500, 506 और 509 के तहत सजा का प्रावधान है. जब पहली बार आरोपी दोषी साबित हो जाता है तो उसे 5 साल की जेल और 10 लाख रुपये तक दंड भरने की सजा भुगतनी पड़ सकती. वहीं दूसरी बार साबित होने पर 7 साल की जेल और 10 लाख का जुर्माना रहता है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना से जान गंवाने वाले रेलकर्मियों के आश्रितों को अनुकंपा पर जल्दी मिलेगी नौकरी

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: