न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

शेल्टर होम कांडः सुप्रीम कोर्ट से बिहार सरकार को झटका, 16 आश्रयगृहों की जांच सीबीआई को सौंपी

22

New Delhi: देश के उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को बिहार सरकार को झटका देते हुए राज्य में 16 आश्रय गृहों में रहने वाले बच्चों के शारीरिक और यौन शोषण के आरोपों की जांच केन्द्रीय जांच ब्यूरो को सौंप दी. साथ ही जांच के दौरान सीबीआई के किसी भी अधिकारी के तबादले पर भी सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाई है. न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर, न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ इन मामलों की जांच सीबीआई को नहीं सौंपने का राज्य सरकार का अनुरोध ठुकरा दिया. इन मामलों की बिहार पुलिस जांच कर रही थी.

शीर्ष अदालत ने कहा कि टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (टीआईएसएस) की रिपोर्ट में राज्य के 17 आश्रय गृहों के बारे में गंभीर चिंता व्यक्त की गयी थी. इसलिए केन्द्रीय जांच ब्यूरो को इनकी जांच करनी ही चाहिए.इस बीच, सीबीआई ने पीठ को सूचित किया कि सिद्धांत रूप में वह जांच का काम अपने हाथ में लेने के लिये तैयार है.

शीर्ष अदालत ने यह भी कहा कि बिहार में आश्रय गृहों की जांच कर रहे सीबीआई के किसी भी अधिकारी का उसकी पूर्व अनुमति के बगैर तबादला नहीं किया जाये. साथ ही बिहार सरकार जांच में सीबीआई को हर सुविधा मुहैया कराये.

उल्लेखनीय है कि सीबीआई पहले ही मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में महिलाओं और लड़कियों के कथित बलात्कार और यौन शोषण के आरोपों की जांच कर रहा है. जांच ब्यूरो ने न्यायालय को बताया कि इस मामले में सात दिसंबर तक आरोप पत्र दाखिल किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ेंःविवादों से घिरे पाकुड़ डीसी दिलीप झा का हुआ तबादला, जेसीईसीई के बने एग्जाम कंट्रोलर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: