न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बॉलीवुड मूवी यंग इंडिया में दिखेंगी चतरा की शीतल, शॉर्ट मूवी में भी कर चुकी हैं काम

58
  • फिल्मों के माध्यम से सामाजिक कुरीतियों को दूर करना है शीतल का मकसद
  • फिल्मों से पहले इंश्योरेंस कंपनी में करती थीं काम

Chatra/Ranchi : सोशल मीडिया का अधिक प्रभाव समाज में देखा जाता है. इसी सोशल मीडिया का इस्तेमाल अगर सामाजिक कुरीतियों को दूर करने में किया जाये, तो समाज पर इसका सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा. कुछ ऐसा ही मानना है चतरा स्थित इटखोरी के पीतीज गांव की रहनेवाली शीतल सिन्हा का. शीतल ने साल 2018 से फिल्मी दुनिया में कदम रखा है. इनकी पहली शॉर्ट फिल्म ए लेटर टू द प्रेसिडेंट है, जो साल 2018 में रिलीज हुई थी. इस साल शीतल बॉलीवुड मूवी यंग इंडिया में नजर आनेवाली हैं. उन्होंने बताया कि दोनों फिल्में सामाजिक मुद्दों पर हैं. यंग इंडिया एक जर्नलिस्ट की कहानी है कि कैसे ईमानदारी से काम करते हुए एक जर्नलिस्ट को विभिन्न समस्याओं का सामना करना पड़ता है. इसमें शीतल लीड रोल दामिनी का किरदार निभाती दिखेंगी. इनकी शॉर्ट फिल्म ए लेटर टू द प्रेसिटेंड को अब तक 1.5 हजार लोगों ने लाइक किया है. इस फिल्म की लीड एक्ट्रेस तो शीतल हैं ही, इसकी पटकथा और क्रिएटिव निर्देशक भी शतील ही हैं.

मर्सी डेथ की कहानी है ए लेटर टू द प्रेसिडेंट

ए लेटर टू द प्रेसिटेंड के बारे में बताते हुए शीतल ने कहा कि भारतीय समाज में दुष्कर्म की घटनाएं आम हो चुकी हैं. लोग यह नहीं समझते कि इसमें पीड़िता का कोई दोष नहीं, बल्कि जिन महिलाओं के साथ ऐसी घटनाएं होती हैं, उन्हें ही समाज प्रताड़ित करता है. ऐसे में यह कहानी एक ऐसी लड़की की है, जिसके साथ दुष्कर्म हुआ है और समाज में उसे अलग-अलग तरह की यातनाएं सहनी पड़ रही हैं. इन सबसे परेशान होकर पीड़िता प्रेसिडेंट को लेटर लिखती है, जिसमें लिखा होता है कि हमारे देश में आत्महत्या एक अपराध है, तो ऐसे में प्रेसिडेंट ही मर्सी डेथ का आदेश दें. शीतल ने कहा कि कहानी काफी भावनात्मक है. खुद शीतल के पास इससे संबंधित कई कमेंट्स आये. उन्होंने बताया कि दोनों फिल्मों के निर्देशक सौरभ भारद्वाज हैं.

इंश्योरेंस कंपनी में करती थीं काम

फिल्मी दुनिया में कदम रखने से पहले शीतल इंश्योरेंस कंपनी में काम करती थीं. उन्होंने बताया कि उनकी शिक्षा एमएससी तक है. पढ़ाई के बाद उनकी नौकरी सूरत की एक इंश्योरेंस कंपनी में हो गयी. यहां से उन्होंने फोटो शूट कराना शुरू किया. फोटो शूट के दौरान ही उनका चयन ए लेटर टू द प्रेसिटेंड के लिए हुआ. शीतल ने बताया कि उनकी दोनों ही फिल्मों की लगभग पूरी शूटिंग झारखंड में हुई है. फिल्म यंग इंडिया की अधिकांश शूटिंग रामगढ़ के घुटवा में की जा रही है.

कास्टिंग काउच वाली कोई बात नहीं

शीतल ने बताया कि कई बार सुनने को मिलता है कि फिल्मी दुनिया में छोटे शहरों की लड़कियों के साथ कास्टिंग काउच जैसी घटनाएं होती हैं, लेकिन ऐसा है नहीं. उन्होंने बताया कि लड़कियों को अपने विवेक से भी काम करना चाहिए. किसी पर भी अधिक निर्भर नहीं हो जाना चाहिए. शीतल ने कहा कि काम करते हुए उन्हें कभी भी ऐसा नहीं लगा कि फिल्मी दुनिया में कास्टिंग काउच जैसी कोई बात है. यहां टैलेंट ही काम आता है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: