JharkhandRanchiTop Story

लालू से मिलने रिम्स पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा- तेजस्वी बिहार का भविष्य, भाजपा ने जनता को काफी परेशान किया

  • लालू से मिलने शत्रुघ्न के साथ हेमंत सोरेन, सुबोधकांत और शकील अहमद भी पहुंचे रिम्स
  • दल बदलने के सवाल पर शत्रुघ्न बोले- खरमास के बाद कुछ निर्णय लूंगा, जाना होगा, तो किसी दल में जाऊंगा, दलदल में नहीं

Ranchi : रिम्स के पेइंग वार्ड में शनिवार को राजनीतिक दिग्गजों का जमावड़ा रहा. जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन, कांग्रेस के पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, कांगेस नेता शकील अहमद और भाजपा के बागी सांसद व मशहूर बॉलीवुड अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव से शनिवार को मिलने पहुंचे थे. अपने चिर-परिचित अंदाज में शत्रुघ्न सिन्हा ने एक बार फिर से भाजपा पर जमकर निशाना साधा. लालू प्रसाद से मिलकर बाहर निकलने के बाद शत्रुघ्न सिन्हा ने बीजेपी द्वारा नोटबंदी समेत अन्य कई फैसलों पर अपने विचार रखते हुए कहा कि भाजपा ने नोटबंदी, जीएसटी जैसे तुगलकी फरमान जारी कर जनता को काफी परेशान किया है. मैंने इन सभी फैसलों के खिलाफ आवाज उठायी है. साथ ही, दल बदलने के मामले पर उन्होंने कहा, “अभी खरमास चल रहा है, खरमास के बाद इस पर कोई निर्णय लूंगा. जाना होगा, तो किसी दल में ही जाऊंगा, दलदल में नहीं. मैं सभी दलों का दोस्त हूं. मैं भारतीय जनता पार्टी का अवश्य हूं, लेकिन पहले एक भारतीय हूं.” लालू प्रसाद के बारे में उन्होंने कहा, “लालू प्रसाद हमारे पारिवारिक मित्र हैं.” शत्रुघ्न सिन्हा ने लालू प्रसाद के बेटे तेजस्वी यादव को बिहार का चेहरा बताया. उन्होंने कहा कि तेजस्वी काफी होनहार हैं और वह बिहार का भविष्य हैं.

Catalyst IAS
ram janam hospital

लालू से मिलने रिम्स पहुंचे शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा- तेजस्वी बिहार का भविष्य, भाजपा ने जनता को काफी परेशान किया

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

2019 में बीजेपी को सत्ता से बेदखल होना पड़ेगा : हेमंत

वहीं, जेएमएम के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने कहा, “जिस प्रकार बीजेपी के खिलाफ देश और अपने राज्य में माहौल बन रहा है, उससे यह साफ प्रतीत हो रहा है कि 2019 में भारजीय जनता पार्टी को सत्ता से बेदखल होना पड़ेगा. वोट के बिखराव को रोकने के लिए महागठबंधन पर सहमति बन रही है. इसके पक्ष में लालू प्रसाद भी हैं और मैं भी हूं. इस संबंध में जल्द ही विभिन्न दलों की बैठक बुलायी जायेगी.” वहीं, रघुवर सरकार द्वारा किये गये अधिकतम पांच एकड़ भूमि वाले किसान को खरीफ फसल की खेती के लिए प्रति एकड़ पांच हजार रुपये देने के विषय पर हेमंत सोरेने ने कहा, “किस योजना के तहत किया गया है या इसका कोई सरकारी दस्तावेज है भी या नहीं. या फिर जिस प्रकार पैसे की घोषणा सीएम ने की है, वह क्या खजाने में है? मुख्यमंत्री कब क्या कहते हैं, यह खुद में एक बड़ा सवाल रहता है. आज परिस्थिति यह है कि राज्य के किसान भुखमरी की स्थिति में हैं, बेहाल हैं, परेशान हैं. उनके लिए सरकार क्या दे रही, सरकार को यह जवाब देना चाहिए.”

इसे भी पढ़ें- देखें वीडियो – कैसे महिला पुलिस ने वकील को जड़ा थप्पड़, वकील भी भिड़े

इसे भी पढ़ें- झारखंड में होगा राज्य जनजातीय आयोग का गठन: सीएम

Related Articles

Back to top button