BusinessNational

#ShashiTharoor का सरकार से सवाल, पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था हासिल करने का रोडमैप क्या है?

NewDelhi :  लोकसभा में कांग्रेस नेता शशि थरूर ने पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के मोदी सरकार के महत्वाकांक्षी लक्ष्य पर बुधवार को सवाल खड़ा किया और पूछा कि आर्थिक कुप्रबंधन और बजटीय विफलता के बीच सरकार का इस लक्ष्य हो हासिल करने की क्या रूपरेखा है ?

सदन में वर्ष 2019-20 के लिए अनुदान की पूरक मांगें-प्रथम बैच पर चर्चा की शुरुआत करते हुए शशि थरूर ने यह भी कहा कि आर्थिक विकास से जुड़े आंकड़ों में गिरावट इस बात का प्रमाण है कि सरकार अर्थव्यवस्था को संभाल पाने में नाकाम रही है.

इसे भी पढ़ें : चार सालों में 3100 से ज्यादा वामपंथी उग्रवादियों ने आत्मसमर्पण किया: केंद्रीय गृह राज्य मंत्री रेड्डी

जीडीपी में गिरावट और राजस्व में कमी

Sanjeevani

उन्होंने जीडीपी में गिरावट और राजस्व में कमी का हवाला देते हुए कहा कि सरकार अब सुधार करना चाहिए और देश को सही दिशा में आगे ले जाना चाहिए. थरूर ने कहा कि मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली सरकार में औसत विकास दर सात फीसदी से अधिक थी, लेकिन इस सरकार में यह गिरकर 4.5 फीसदी पहुंच गयी है. उन्होंने यह आरोप लगाया कि इस सरकार के आने के बाद तीन करोड़ नये लोग गरीबी रेखा के नीचे आ गये.

इसे भी पढ़ें : #LokSabha: : भाजपा सांसद का राहुल बजाज पर तंज, बजाज ग्रुप की चीनी मिलों पर किसानों  का 10 हजार करोड़ बकाया, डर लगेगा ही

सरकार के शासनकाल में बेरोजगारी बढ़कर 8.4 फीसदी तक पहुंच गयी  

थरूर ने सरकार के पांच हजार अरब डॉलर की अर्थव्यवस्था के महत्वाकांक्षी लक्ष्य पर सवालिया निशान लगाते हुए पूछा कि इसे हासिल करने के लिए सरकार का रोडमैप क्या है? कांग्रेस नेता ने कहा कि पहले के वित्त मंत्री ने बजट के संदर्भ में बहुत सारी घोषणाएं कीं थीं, लेकिन सरकार लक्ष्य पूरा करने में विफल रही . उन्होंने यह दावा भी किया कि इस सरकार के शासनकाल में बेरोजगारी बढ़कर 8.4 फीसदी तक पहुंच गयी  है, ऑटो क्षेत्र बुरी हालत में है और दूसरे सभी क्षेत्रों में गिरावट है. सरकार का आर्थिक कुप्रबंधन और बजट संबंधी विफलता साफ दिख रही है.

भाजपा सांसद निशिकांत दूबे के जीडीपी संबंधी एक बयान का हवाला देते हुए थरूर ने तंज किया कि अब तय करना चाहिए कि प्रधानंत्री नरेंद्र मोदी और दूबे में से कौन बड़ा अर्थशास्त्री है.  बाद में दूबे ने प्रतिवाद करते हुए कहा कि उन्होंने कुछ अर्थशास्त्रियों का इस संदर्भ में हवाला देते हुए कहा था कि पूरी दुनिया में जीडीपी पर प्रश्नचिन्ह है.

इसे भी पढ़ें : #RajyaSabha : #MobLynching को लेकर अमित शाह ने कहा, आईपीसी-सीआरपीसी में  बदलाव के लिए परामर्श जारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button