न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#CitizenshipAmendmentBill पर बोले शशि थरूर, भारत का स्तर गिरकर पाकिस्तान का हिन्दुत्व संस्करण  हो जायेगा

नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने का मतलब महात्मा गांधी के विचारों पर मोहम्मद अली जिन्ना के विचारों की जीत होगा.

50

Thiruvananthapuram : नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होने का मतलब महात्मा गांधी के विचारों पर मोहम्मद अली जिन्ना के विचारों की जीत होगा. धर्म केआधार पर नागरिकता देने से भारत पाकिस्‍तान का हिंदुत्‍व संस्‍करण  बन जायेगा. भाजपा सरकार एक समुदाय अलग करना चाहती है. कांग्रेस नेता और पूर्व विदेश राज्य मंत्री शशि थरूर ने नागरिकता संशोधन विधेयक को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए यह बात कही.

शशि थरूर ने कहा कि धर्म के आधार पर नागरिकता देने से भारत का स्तर गिरकर पाकिस्तान का हिन्दुत्व संस्करण’ हो जायेगा.’यदि नागरिकता संशोधन विधेयक पारित होता है तो मुझे विश्वास है कि सुप्रीम कोर्ट संविधान के मूल सिद्धांतों के खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन को अनुमति नहीं देगा.

Sport House

शशि थरूर ने आरोप लगाया कि यह केवल स्‍वार्थपूर्ण राजनीतिक कदम है ताकि भारत से एक समुदाय विशेष को अलग थलग किया जा सके और उन्‍हें नागरिकता से वंचित किया जा सके.   थरूर ने कहा कि यह हमें पाकिस्‍तान के हिंदुत्‍व संस्‍करण में सीमित कर देगा.  उन्‍होंने कहा, इस बिल का पारित होना जिन्‍ना के विचारों की महात्‍मा गांधी के विचारों पर निर्णायक जीत होगी.

इसे भी पढ़ें :  #InfrastructureSector के एक तिहाई प्रोजेक्ट में देर का खामियाजा, 3.89 लाख करोड़ रुपये लागत बढ़ी : रिपोर्ट

सोमवार को गृह मंत्री अमित शाह नागरिकता संशोधन बिल को लोकसभा में पेश करेंगे

जान लें कि सोमवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह  नागरिकता संशोधन बिल को लोकसभा में पेश करने जा रहे हैं,  केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को ही नागरिकता संशोधन विधेयक को मंजूरी दे दी थी, हालांकि कई विपक्षी दल इस विधेयक का विरोध कर रहे हैं.  अमित शाह सहित भाजपा  के शीर्ष नेताओं ने इस विषय पर राजनीतिक दलों और पूर्वोत्तर के नागरिक समूहों से व्यापक चर्चा की है.

Vision House 17/01/2020

इन नेताओं ने उनकी चिंताओं को दूर करने की कोशिश की.  अगर नागरिकता संशोधन विधेयक संसद के इस शीतकालीन सत्र में दोनों सदनों से पास हुआ तो फिर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हस्ताक्षर के बाद यह कानून बन जायेगा.  उधर, आरएसएस का कहना है कि नागरिकता संशोधन विधेयक के कानून बनने पर गैर मुस्लिम अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने में किसी तरह का खेल नहीं होने दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें :   #EconomicSlowdown : रघुराम राजन ने कहा, अर्थव्यवस्था का संचालन PMO से होना, मंत्रियों के पास कोई शक्ति नहीं होना ठीक नहीं

SP Deoghar

दो से तीन करोड़ अल्पसंख्यकों को लाभ होगा

नागरिकता बिल संसद में पारित होने के बाद पड़ोसी तीनों देशों से 31 दिसंबर 2014 तक भारत में आए हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी, ईसाई अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता मिल सकेगी.  संघ का मानना है कि बिल के कानून का रूप लेने के करीब सालभर तक नागरिकता देने का काम पूरा हो जायेगा.  करीब दो से तीन करोड़ अल्पसंख्यकों को इससे लाभ मिलेगा.  मगर इसमें किसी तरह की चूक से रोकने के लिए उन सामाजिक संगठनों की मदद ली जायेगी जो इन अल्पसंख्यकों के अधिकारों की लड़ाई लड़ते रहे हैं.

इसे भी पढ़ें : DG /IG Conference में बोले अमित शाह, #IPC और #CRPC की धाराओं में अहम बदलाव किया जायेगा

 

Mayfair 2-1-2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like