न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोजद के रालोसपा में विलय की खबरों से शरद यादव का इनकार, बताया मनगढ़ंत कहानी

910

New Delhi: वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव ने लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) के रालोसपा में विलय की बातों को नकार दिया है. शरद यादव ने मंगलवार को इस आशय की मीडिया रिपोर्टों का खंडन करते हुए इन्हें सरासर गलत बताया. उनकी ओर से जारी बयान के अनुसार ‘उन मीडिया रिपोर्टों में कोई सच्चाई नहीं है जिनमें कहा गया है कि उपेंद्र कुशवाह की रालोसपा और लोजद का विलय हो रहा है.’

विलय की बात मनगढ़ंत

Trade Friends

शरद यादव ने इन बातों को मनगढ़ंत कहानियां बताते हुए कहा कि निहित स्वार्थ वाले लोगों द्वारा ये कहानी बनाई जा रही हैं, जिसे मैं पूरी तरह से खारिज करता हूं. इस दिशा में कोई चर्चा भी नहीं की जा रही है.

उल्लेखनीय है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता वाली जदयू के राजग में शामिल होने का विरोध करने पर पार्टी से निष्कासित किए गये यादव के समर्थकों ने उनके नेतृत्व में लोजद का गठन किया था. आगामी लोकसभा चुनाव के लिए वह विपक्षी दलों के महागठबंधन की कवायद करने वाले नेताओं में शामिल हैं.

Related Posts

पांच प्रतिशत अतिरिक्त महंगाई भत्ता के साथ अक्टूबर महीने का वेतन देगी बिहार सरकार 

अतिरिक्त महंगाई भत्ता से राज्य सरकार के खजाने पर 1,048 करोड़ रुपये का बोझ आने का अनुमान

WH MART 1

कुशवाहा ने दिए थे संकेत

उल्लेखनीय है कि रालोसपा प्रमुख ने इस विलय के संकेत दिए थे. एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत में उपेंद्र कुशवाहा ने कहा था, ”शरद यादव की पार्टी के साथ विलय होगा ऐसा कहना अभी उचित नहीं होगा. शरद यादव सामाजिक न्याय के क्षेत्र में आज की तारीख में सबसे बड़े लीडर हैं. आगे शायद कोई संभावना लगे तो हो सकता है लेकिन अभी कुछ ऐसा नहीं है कि कह दें कि पार्टी का विलय हो रहा है.”

इसे भी पढ़ेंः वित्त वर्ष 2019-20 के लिए रघुवर सरकार ने 85,429 करोड़ का बजट किया पेश, सीएम बोले, मैं गीत नया गाता हूं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like