Bihar

लोजद के रालोसपा में विलय की खबरों से शरद यादव का इनकार, बताया मनगढ़ंत कहानी

New Delhi: वरिष्ठ समाजवादी नेता शरद यादव ने लोकतांत्रिक जनता दल (लोजद) के रालोसपा में विलय की बातों को नकार दिया है. शरद यादव ने मंगलवार को इस आशय की मीडिया रिपोर्टों का खंडन करते हुए इन्हें सरासर गलत बताया. उनकी ओर से जारी बयान के अनुसार ‘उन मीडिया रिपोर्टों में कोई सच्चाई नहीं है जिनमें कहा गया है कि उपेंद्र कुशवाह की रालोसपा और लोजद का विलय हो रहा है.’

विलय की बात मनगढ़ंत

शरद यादव ने इन बातों को मनगढ़ंत कहानियां बताते हुए कहा कि निहित स्वार्थ वाले लोगों द्वारा ये कहानी बनाई जा रही हैं, जिसे मैं पूरी तरह से खारिज करता हूं. इस दिशा में कोई चर्चा भी नहीं की जा रही है.

उल्लेखनीय है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता वाली जदयू के राजग में शामिल होने का विरोध करने पर पार्टी से निष्कासित किए गये यादव के समर्थकों ने उनके नेतृत्व में लोजद का गठन किया था. आगामी लोकसभा चुनाव के लिए वह विपक्षी दलों के महागठबंधन की कवायद करने वाले नेताओं में शामिल हैं.

advt

कुशवाहा ने दिए थे संकेत

उल्लेखनीय है कि रालोसपा प्रमुख ने इस विलय के संकेत दिए थे. एक टीवी न्यूज चैनल से बातचीत में उपेंद्र कुशवाहा ने कहा था, ”शरद यादव की पार्टी के साथ विलय होगा ऐसा कहना अभी उचित नहीं होगा. शरद यादव सामाजिक न्याय के क्षेत्र में आज की तारीख में सबसे बड़े लीडर हैं. आगे शायद कोई संभावना लगे तो हो सकता है लेकिन अभी कुछ ऐसा नहीं है कि कह दें कि पार्टी का विलय हो रहा है.”

इसे भी पढ़ेंः वित्त वर्ष 2019-20 के लिए रघुवर सरकार ने 85,429 करोड़ का बजट किया पेश, सीएम बोले, मैं गीत नया गाता हूं

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button