Opinion

बेशर्म नेता और बेबस मध्यप्रदेश : विधायक करोड़ों में बिक रहे हैं और जनता घरों में कैद है

Apurva Bhardwaj

जब पूरा देश कोरोना के कारण एक अजीब सी दहशत और डर के दौर से गुजर रहा है, तब मध्यप्रदेश के नेता बड़ी बेशर्मी से सत्ता का चोर पुलिस खेल रहे हैं. हर नेता अपने विपक्षी को चोर कह रहा है. एक दूसरे को लोकतंत्र का हत्यारा कह रहा है. लेकिन क्या वाकई में यह लोकतंत्र की परिभाषा भी जानते हैं?

जब बाजार, दुकान और यहां तक कि भगवान भी बंद (कैद) हो रहे हैं, ये नेता खुलेआम सत्ता का भोंडा नाच कर रहे हैं. विपत्ती और महामारी में जब दुश्मन भी एक हो जाते हैं, लेकिन सत्ता के लालच में आकंठ डूबे यह नेता किसी की परवाह नही कर रहे हैं. नेताओं को इटली और अमेरिका के नेताओं से सीखना चाहिये. जो सारे काम छोड़कर जनता के बीच जाकर इस बीमारी के लिए जागरूकता फैला रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः यस बैंक, PMC बैंक घोटाले में जिस कंपनी का नाम आया, उसने BJP को दिया है 20 करोड़ का अवैध चंदा

क्या आज के हालात में आप मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ औऱ पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज की सयुंक्त प्रेस कांफ्रेस की कल्पना कर सकते हैं. जो लोगों को कोरोना के डर से और अफवाहों से बचने के उपाय बतायें. क्या आपने किसी विधायक को लोगों के बीच जाकर कोरोना के बारे में जानकारी देते हुए देखा है.

यह राजनीति का रसातल है जो मध्यप्रदेश के विकास को गर्त में पहुंचा देगा.

आप लोग भले ही आज इसका मजा ले रहे हैं. लेकिन आगे चलकर आप अपने आप को जरूर कोसेंगे की जब रोम जल रहा था तो नीरो चैन की बंशी बजा रहा था. वो सत्ता के मद में एक महामारी को मजाक समझकर पूरी जनता को मुंह चिढ़ा रहा है. मध्यप्रदेश के नेताओं ने पूरे देश मे आज इस प्रदेश की जनता को एक मजाक बना कर रख दिया है.

नेता ऐसा कर सकते हैं. क्योकि वो जानते हैं कि कुछ भी हो जाये यह गुलाम नागरिक क्या कर लेगा. यह तो पैदा ही ऐसे मरने के लिए हुआ है. आज करोड़ों रुपये में विधायक बिक रहे हैं. जब जनता अपने घरों में कैद है नेता रिसोर्ट में ऐश कर रहे हैं.

और अरबों रुपये उनके स्वागत सत्कार में खर्च हो रहे हैं. आम आदमी जब बाजार में मंदी के चलते परेशान है, नेताओं की दुकान फूल आन है.

किसी की भी सरकार जाये या आये… लेकिन मध्यप्रदेश का पीछे जाना तय है. जब यह नेता अगली बार आप से वोट मांगने आये तो यह जरूर पूछियेगा की आपने मेरा वोट और अपना ईमान कितने में बेचा है.

(डिसक्लेमरः इस लेख में व्यक्त किये गये विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गयी किसी भी तरह की सूचना की सटीकतासंपूर्णताव्यावहारिकता और सच्चाई के प्रति newswing.com उत्तरदायी नहीं है. लेख में उल्लेखित कोई भी सूचनातथ्य और व्यक्त किये गये विचार newswing.com के नहीं हैं. और newswing.com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है)

इसे भी पढ़ेंः थोक में कॉल डेटा आंकड़े जुटा रहा दूरसंचार विभाग, क्या सरकार करा रही जासूसी?

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button