न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लड़कियों की सुरक्षा के लिए बना शक्ति ऐप, आज यह खुद ही हो चुका है शक्तिहीन

460

Ranchi : लड़कियों की सुरक्षा के लिए रांची पुलिस ने शक्ति ऐप बनाया है. यह ऐप आज खुद ही शक्तिहीन हो चुका है. हालात ऐसे हैं कि कई दिनों तक शक्ति ऐप की घंटिया तक नहीं बजती है .महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा को लकेर झारखंड पुलिस ने शक्ति ऐप लॉन्च किया था. वहीं जागरूकता के अभाव में राज्य में शक्ति ऐप को अच्छा रिस्पांस नहीं मिल रहा है. इस ऐप पर बहुत कम की शिकायत दर्ज होती है. इसका मुख्य कारण ये है कि शक्ति ऐप का ऑपरेटिंग सिस्टम इतना पेचीदा है कि कई बार जरूरत पड़ने पर इस ऐप पर शिकायत की जगह घर में कॉल करना लड़कियां अधिक पसंद करती हैं. वहीं इसके बारे में लड़कियों में जानकारी भी कम है.

इसे भी पढ़ें- जेडीयू विधायक और बिहार की समाज कल्याण मंत्री ने दिया इस्तीफा

ऐप से अनजान हैं युवतियां

सुरक्षा के लिए शुरू हुई शक्ति ऐप से युवतियां अनजान हैं. राजधानी रांची में महिलाएं और युवतियां शहर में खुद को सुरक्षित महसूस कर सकें और छेड़छाड़ की घटनाओं से खुद को बचा सकें इसलिए झारखंड पुलिस ने शक्ती ऐप को लॉन्च किया था. सबसे पहले इस ऐप को जमशेदपुर में लॉन्च किया गया था, जिसके बाद रांची में भी लॉन्च किया गया. लेकिन आज तक युवतियों, महिलाओं और छात्राओं को इस ऐप की कोई जानकारी नहीं है. उन्हें पता ही नहीं है कि उनकी सुरक्षा के लिए कोई ऐप भी तैयार किया गया है.

इसे भी पढ़ें- यशवंत,शौरी व प्रशांत ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा, राफेल डील आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला

रांची में भी सुरक्षित नहीं हैं महिलाएं

शहर के प्रमुख चौक-चौराहों पर भी लड़कियां खुद को सुरक्षित महसूस नहीं करती हैं. सर्कुलर रोड, पुरुलिया रोड, मेन रोड, पीस रोड में लड़कियों और महिलाओं के साथ छेड़खानी सामान्य सी बात है. हालांकि प्रशासन ने भी महिलाओं व कॉलेज जाने वाली छात्राओं की सुरक्षा को लेकर कई प्रयास किये हैं, मगर सभी प्रयास बेकार साबित हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- चिकनगुनिया : चार दिन बाद हरकत में आयी सरकार, मंत्री ने अधिकारियों को लगायी फटकार

ऑपरेटिंग सिस्टम है पेचीदा

रांची वूमेंस कॉलेज की कुछ छात्रा से बात करने पर उन्होंने बताया कि सबके पास स्मार्ट फोन नहीं होता. शक्ति ऐप का आपरेटिंग सिस्टम इतना पेचीदा है कि कई बार जरूरत पड़ने पर भी इस ऐप पर शिकायत की जगह घर में कॉल करना अधिक पसंद करती हैं.

इसे भी पढ़ें- नेतरहाट एवं इंदिरा गांधी आवासीय विद्यालय होगा सीबीएसई, राज्य के हर पंचायत में प्लस टू स्कूल खोलेगी सरकार

महिला पुलिसकर्मी को भी नहीं पता है

नाम ना लिखने के शर्त पर पीसीआर पेट्रोलिंग टीम की महिला पुलिसकर्मी कहती हैं कि उन्हें इस ऐप के बारे में जानकारी नहीं है कैसे ये काम करता है ये हमलोग नहीं जानते हैं. जाकर उनसे पूछिए जो इसका इस्तेमाल करती हैं.

शक्ति ऐप कभी भी हो सकता है बंद

शक्ति ऐप को अच्छा रिस्पांस नहीं मिल रहा हैं. रांची में ऐप के आने के बाद उम्मीद की गई थी कि इसका विस्तार अन्य जिलों में भी होगा. लेकिन हालात बता रहे हैं कि अन्य शहरों को तो छोड़िए, राजधानी में भी शक्ति ऐप कभी भी बंद हो सकता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: