Lead NewsNationalNEWS

शाहरुख के बेटे आर्यन की जमानत पर आज भी होगी सुनवाई, जानें-जमानत के पक्ष में क्या हैं दलीलें

Mumbai: ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता शाहरुख के बेटे बेटे आर्यन की जमानत पर बंबई हाईकोर्ट में आज फिर सुनवाई होगी. न्यायमूर्ति एन. वी. सांबरे बुधवार को भी जमानत याचिका पर सुनवाई करेंगे. मालूम हो कि एक दिन पूर्व बेटे को जमानत दिलाने के लिये शाहरुख खान ने वकीलों की फौज उतारा दिया है. जिनमें पूर्व अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी और सतीश मानशिंदे प्रमुख हैं. इन दोनों ने अपनी टीम के साथ मंगलवार को भी अदालत में दलील दी है. मंगलवार को सुनवाई पूरी नहीं होने की वजह से आज फिर सुनवाई होगी. जानें-जमानत के लिये क्या दलील दी जा रही है…

इसे भी पढ़ेंःहाय महंगाईः पेट्रोल रांची में 102 और गढ़वा में 104 के पार, अक्टूबर में 19वीं बार वृद्धि

advt

आर्यन के पक्ष में वकीलों ने अदालत में कहा कि एनसीबी के पास 23 वर्षीय आर्यन के खिलाफ कोई साक्ष्य नहीं है. उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें गलत तरीके से गिरफ्तार किया गया और 20 दिनों से अधिक समय से जेल में रखा गया है. वरिष्ठ वकील रोहतगी ने कहा, नशा करने का कोई साक्ष्य नहीं है. मादक पदार्थ जब्त नहीं हुआ. तथाकथित षड्यंत्र और उकसाने में उनकी संलिप्तता के कोई साक्ष्य नहीं हैं, जैसा कि एनसीबी ने यही आरोप लगाया है.

 

रोहतगी ने कहा कि जहां तक एनडीपीएस का सवाल है, हमने इस मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट में उठाया था. हमने इस मुद्दे को विशेष अधिनियमों की कई याचिकाओं में उठाया था. क्योंकि ये अधिकारी हैं पुलिस नहीं. मैं तूफान सिंह केस में कोर्ट के फैसले का जिक्र करूंगा. जस्टिस नरीमन कोर्ट में कहते हैं कि एनडीपीएस अधिकारी अधिनियम के तहत जो बयान दर्ज करता है, वह अदालत में स्वीकार्य नहीं है.

इसे भी पढ़ेंःकोवैक्सीन को नहीं मिली WHO से मंजूरी, तीन नवंबर को अगली बैठक

रोहतगी ने कहा कि एनसीबी पुरानी चैट का जिक्र कर रही है और उसी के आधार पर कह रही है कि आर्यन का कुछ लोगों से लेना-देना है. मैं जब बाहर था तो इसको भी अंतरराष्ट्रीय लिंक बताया जा रहा था. यह बहुत छोटा सा मामला है और आर्यन के पिता की वजह से इस मामले को इतना हाइलाइट कर दिया गया. रोहतगी ने कहा कि एनसीबी ने आर्यन खान के व्हाट्सएप चैट पर भी गलत तरीके से भरोसा किया. क्योंकि उनका वर्तमान मामले से कोई संबंध नहीं है. उन्होंने कहा कि चैट 2018, 2019 और 2020 की हैं और इसका इस क्रूज पार्टी से कोई संबंध नहीं है. चैट कुछ विदेशियों सहित कुछ व्यक्तियों के साथ मादक पदार्थ के बारे में हैं। यह अतीत में कथित सेवन से संबंधित होगा.

 

सुनवाई के दौरान रोहतगी ने बेंच से कहा कि मुझे विटनेस नंबर 1 और 2 यानी प्रभाकर सैल और केपी गोसावी से कोई मतलब नहीं है, न ही मैं उन्हें जानता हूं. रोहतगी ने कहा कि ये नए लड़के हैं. उन्हें सुधार गृह में भेजा जा सकता है. उन पर मुकदमा नहीं चलाया जाना चाहिए. मैंने अखबारों में भी पढ़ा है कि सरकार सुधार के बारे में बात कर रही है.

 

अदालत बुधवार को एनसीबी की तरफ से पेश होने वाले अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल अनिल सिंह की भी दलीलें सुनेगी. आर्यन खान को तीन अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था. एनडीपीएस मामलों एक की विशेष अदालत उनकी जमानत याचिका खारिज कर चुकी है.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: