DeogharJharkhand

यौन उत्पीड़न मामले में प्रदीप यादव के खिलाफ वारंट जारी, होंगे गिरफ्तार

Deoghar : जेवीएम महिला नेत्री से यौन उत्पीड़न के मामले जेवीएम के पोड़ैयाहाट विधायक प्रदीप यादव को पुलिस जांच में दोषी पाया गया है. शनिवार को विधायक प्रदीप यादव के खिलाफ सीजेएम कोर्ट ने गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया गया है.

Jharkhand Rai

प्रदीप यादव के खिलाफ शुक्रवार को गरिमा मिश्रा की अदालत ने गिरफ्तारी वारंट के लिए अर्जी दी गयी थी. कोर्ट ने शनिवार को सुनवाई के बाद गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आदेश दिया.

वहीं वारंट जारी होने के बाद प्रदीप यादव की मुश्किलें बढ़ गई हैं क्योंकि अब देवघर पुलिस कभी भी प्रदीप यादव को गिरफ्तार कर सकती है.

पुलिस जांच में दोषी पाए गए प्रदीप यादव

प्रदीप यादव को पुलिस जांच में दोषी पाया गया है. केस की अनुसंधानकर्ता साइबर डीएसपी नेहा बाला की रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है. पुलिस की जांच में प्रदीप यादव के खिलाफ आईपीसी की धारा 354, 354ए, 354बी, 354डी, 506 और 509 में मामला सत्य पाया गया है.

Samford

कोर्ट ने जमानत याचिका की खारिज

18 जून को देवघर कोर्ट ने मामले को लेकर विधायक प्रदीप यादव की ओर से दाखिल अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी.

इससे पहले सोमवार (17 जून ) को अधिवक्ताओं ने अपना पक्ष रखा था. जिसे सुनने के बाद एडीजे प्रथम ने फैसला सुरक्षित रख लिया था.

पूर्व जेवीएम महासचिव और पोड़ैयाहाट से विधायक प्रदीप यादव पर जेवीएम की केंद्रीय प्रवक्ता रिंकी झा ने यौन शोषण के प्रयास का मामला दर्ज कराया है.

13 जून को प्रदीप यादव ने दर्ज कराया था अपना बयान

13 जून को प्रदीप यादव ने साइबर थाना में एसडीपीओ विकास चंद्र श्रीवास्तव और आईओ संगीता कुमारी के सामने अपना बयान दर्ज करवाया था. पुलिस ने बंद कमरे में उनसे दो घंटे तक पूछताछ की थी.

इससे पहले प्रदीप यादव को अपना पक्ष रखने के लिए सात जून तक का समय दिया गया था. लेकिन प्रदीप यादव ने थोड़ा समय मांगा था. जिसके बाद उन्हें 13 जून तक का समय दिया गया था.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: