DhanbadJharkhand

#Dhullu तेरे कारण: यौन शोषण पीड़िता ने स्पीकर से लगायी गुहार, बिना जमानत नहीं लेने दें शपथ

विज्ञापन

Dhanbad : यौन शोषण पीड़िता ने झारखंड विधानसभा के स्पीकर स्टीफन मरांडी को एक ज्ञापन सौंपकर बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो को शपथ ग्रहण समारोह में शामिल नहीं करने का अनुरोध किया है.

पीड़िता ने बताया है कि कतरास थाने में विधायक के खिलाफ गंभीर धाराओं के तहत मामला दर्ज हैं. उनके खिलाफ धारा 354, 376, 504, 511 के तहत मामला दर्ज हैं.

वे दुष्कर्म का प्रयास करने के आरोपी हैं. पीड़िता ने यह दलील दी है कि देश में निर्भया कांड के बाद इन धाराओं को गैरजमनतीय धाराओं की श्रेणी में रखा गया है.

advt

यह गंभीर अपराध है और विधायक ने इस मामले में अभी तक जमानत नहीं ली है.

इसे भी पढ़ें : स्वच्छता सर्वेक्षण में जमशेदपुर देश के टॉप 10 में, पर जुस्को के डंपिंग यार्ड में पनपते हैं डेंगू के लार्वा  

हाई कोर्ट के हस्तक्षेप पर दर्ज की गयी थी प्राथमिकी

पीड़िता ने बताया है कि विधायक की दबंगई के कारण मामले की प्राथमिकी कतरास थाने में भी दर्ज नहीं की जा रही थी. उन्होंने इसके लिए काफी गुहार लगायी. थाना के सामने आत्मदाह करने की भी कोशिश की.

इसके बावजूद विधायक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज नहीं की गयी. मामले में आखिरकार उच्च न्यायालय, झारखंड को हस्तक्षेप करना पड़ा और कतरास थाने में प्राथमिकी दर्ज की गयी.

adv

प्राथमिकी दर्ज होने के बावजूद उन्होंने इस मामले में अभी तक जमानत नहीं ली है. इससे साफ स्पष्ट होता है कि विधायक के मन में कानून के प्रति कोई सम्मान नहीं है.

इसे भी पढ़ें : #CBSE बोर्ड परीक्षा में डिजिटल घड़ी पहने परीक्षार्थियों को नहीं मिलेगा प्रवेश, 75 फीसदी अटेंडेंस भी जरूरी

… तो अपराध की प्रवृत्ति को मिलेगा बल

पीड़िता ने स्पीकर से गुहार लगाते हुए कहा है कि ऐसे अपराध में लिप्त व्यक्ति का शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होना सदन की पवित्रता के विरुद्ध होगा. सदन में बैठने वाले लोग कानून के निर्माता होते हैं.

पीड़िता ने कहा है कि बिना जमानत लिये शपथ ग्रहण में विधायक ढुल्लू महतो को शामिल करने से समाज में एक गलत संदेश जायेगा. ऐसे में कानून को तोड़ने या कानून को नहीं मानने वाले लोगों का मनोबल बढ़ेगा और अपराध की प्रवृत्ति को बल मिलेगा.

पीड़िता ने स्पीकर से बुहार लगाते हुए कहा है कि सदन विधायक को पहले जमानत कराने का आदेश दे. जमानत कराने के बाद ही विधायक को शपथ ग्रहण समारोह में हिस्सा लेने की आज्ञा मिले.

इससे सदन की गरिमा बहाल रहेगी. पीड़िता ने ज्ञापन की कॉपी मंत्री रामेश्वर उरांव और आलमगीर आलम को भी सौंपी है.

इसे भी पढ़ें : रघुवर सरकार ने भ्रष्टाचार करने की नीयत से ही विकास कार्यक्रम चलायाः सरयू

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button