GiridihJharkhand

ग्रामीण इलाकों में बच्चों को खेल-खेल में पढ़ाई सिखाने में सेविका-सहायिका बनेंगी मददगार: जगरनाथ महतो

Giridih: ग्रामीण इलाकों में अब सेविका-सहायिका ही आंगनबाड़ी केंद्रों में बच्चों को शिक्षित करने की जिम्मेवारी उठाएगी. इसके लिए एक नया प्रस्ताव शिक्षा मंत्रालय में आ चुका है खेल-खेल में पढ़ाई का. सूबे के शिक्षा सह उत्पाद-मद्य निषेध मंत्री जगरन्नाथ महतो ने इस नए प्रस्ताव की जानकारी प्रेसवार्ता के दौरान शनिवार को गिरिडीह में दी. सेविका-सहायिका के आभार व्यक्त कार्यक्रम में शामिल होने गिरिडीह पहुंचे शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह नया फार्मूला है, जिस पर हेमंत सरकार कार्य करने जा रही है. इसके लिए सेविका-सहायिका को उनके मानेदय के बाद 2 हजार का अतिरिक्त भुगतान करेगी. मंत्री ने कहा कि इस प्रस्ताव से जुड़ी फाईल उनके पास आ चुकी है. लिहाजा जल्द ही इसे स्वीकृति देने की कोशिश की जाएगी. शिक्षा मंत्री ने कहा कि इस फार्मूले का मकसद सिर्फ यही है कि हर रोज आंगनबाड़ी केन्द्र आने वाले बच्चों को पढ़ाई की आदत लग सके क्योंकि शुरुआती दौर में उन्हें आदत लगने के बाद बच्चों के एक मेघावी छात्र बनने का रास्ता आसान हो जाएगा.
इसे भी पढ़ें: Ranchi: जवाहर विद्या मंदिर श्यामली में मनाया गया एनएसएस का स्थापना दिवस

डीएसई को जांच का दिया आदेश

शिक्षा मंत्री ने गिरिडीह के डीएसई विनय कुमार को निर्देश दिया कि कोरोना काल में मध्याह भोजन के राशि वितरण में गड़बड़ी हुई है तो जांच कर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करें. जबकि एक अन्य सवाल के जवाब में मंत्री ने कहा कि जल्द ही पूरे राज्य के कॉलेजों में शिक्षकों की बहाली की जाएगी. अब इसकी प्रकिया में हेमंत सरकार जुट गई है. प्रेसवार्ता के दौरान सदर विधायक सुदिव्य कुमार सोनू भी मौजूद थे.

Related Articles

Back to top button