न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

देश में गंभीर मंदी, लेकिन कुंभकरण की नींद सो रही सरकार: कांग्रेस

819

New Delhi : अर्थव्यवस्था में सुस्ती और वस्त्र उद्योग क्षेत्र में मंदी से जुड़े एक विज्ञापन को लेकर कांग्रेस सरकार ने बुधवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि देश ‘गंभीर मंदी’ का सामना कर रहा है, लेकिन सरकार कुंभकरण की नींद में सोई हुई है.

इसे भी पढ़ें- टेक्सटाइल इंडस्ट्री के बर्बाद होने के पीछे सरकार की गलत नीतियां

सुरजेवाला ने किया ट्वीट

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि खेती के बाद सबसे ज्यादा रोज़गार पैदा करने वाला ‘कपड़ा उद्योग’ अब गंभीर मंदी की मार में. अखबार में इश्तिहार तक दिया पर कुंभकरणी नींद सो रही भाजपा सरकार.

उन्होंने सवाल किया कि क्या देश का रोज़गार खत्म करना व उद्योग बंद करना देश विरोधी नहीं है? ”

इसे भी पढ़ें- INX केस में चिदंबरम के साथ आयी प्रियंका, कहा- ‘शर्मनाक तरीके से’ पीछे पड़ी है सरकार

टेक्सटाइल इंडस्ट्री बर्बाद होने के कगार पर

गौरतलब है कि कुछ अखबारों में ‘नॉर्दन इंडिया टेक्सटाइल मिल्स एसोसिएशन’ नामक संगठन की तरफ से एक विज्ञापन छपवाया गया है जिसमें बताया गया है कि वस्त्र उद्योग क्षेत्र में नौकरियों पर संकट मंडरा रहा है.

संगठन ने अपने विज्ञापन में साल 2018 और 2019 की तुलना करके बताया है कि अप्रैल से जून तक के महीने में सूती धागे के निर्यात में बहुत कमी आयी है.

टेक्सटाइल इंडस्ट्री के बर्बाद होने के पीछे सरकार की गलत नीतियां

टेक्सटाइल इंडस्ट्री करीब 10 करोड़ लोगों को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार देती है. साथ ही ये इंडस्ट्री किसानों के उत्पाद जैसे कपास, जूट वगैरह भी खरीदती है. यानी अगले साल तक कपास उत्पादक किसान भी इसकी चपेट में आ जाएगा.

Related Posts

अमित शाह ने चुनावी रैली में कहा, पंडित नेहरू ने संघर्ष विराम नहीं कराया होता, तो #POK का अस्तित्व नहीं होता

कश्मीर में कोई अशांति नहीं है और आने वाले दिनों में आतंकवाद समाप्त हो जायेगा.

style="display:block; text-align:center;" data-ad-layout="in-article" data-ad-format="fluid" data-ad-client="ca-pub-4464267052229509" data-ad-slot="3747040069">

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: