NationalUttar-Pradesh

विकास दुबे की खोज में पुलिस के कई दल दूसरे राज्यों में भी कर रहे हैं छापेमारी

विज्ञापन
Advertisement

Lucknow: कानपुर के चौबेपुर में गुरुवार देर रात दबिश देने गयी पुलिस टीम पर हमला कर आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी गयी थी. कुख्यात अपराधी विकास को पकड़ने के लिये पुलिस की 25 से अधिक टीम उत्तर प्रदेश और अन्य राज्यों में लगातार छापेमारी कर रही हैं. वहीं घटना के करीब 36 घंटे बाद भी वह पुलिस की पकड़ से बाहर है.

पुलिस सूत्रों के मुताबिक कुछ पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है. ताकि यह जाना जा सके कि दुबे को उसके घर पर पुलिस की छापेमारी के बारे में पहले से खबर कैसे पहुंची. क्योंकि पुलिस दल पर पूरी तैयारी के साथ हमला किया गया था.

इसे भी पढ़ें- धर्म चक्र दिवस पर बोले PM: बुद्ध के आदर्शों से मिल सकता है दुनिया के सामने आ रही चुनौतियों का समाधान

advt

लगभग 500 मोबाइल फोन की छानबीन कर रही है सर्विलांस टीम 

कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक (आइजी) मोहित अग्रवाल ने बताया कि विकास दुबे और उसके सहयोगियों को पकड़ने के लिये पुलिस की 25 टीमें लगायी गयी हैं. ये टीमें राज्य के अलग-अलग जिलों के अलावा कुछ दूसरे राज्यों में भी छापेमारी कर रही हैं. हालांकि, उन्होंने कहा कि यह नहीं बताया जा सकता कि पुलिस की टीमें किन-किन जनपदों में और किन प्रदेशों में तलाशी अभियान चला रही है.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि सर्विलांस टीम लगभग 500 मोबाइल फोन की छानबीन कर रही है और उससे विकास दुबे के बारे में सुराग लगाने का प्रयास कर रही है. इसके अलावा उप्र एसटीएफ की टीमें भी अपने काम में लगी हैं. आइजी ने विकास दुबे के बारे में सही जानकारी देने वाले को पचास हजार रुपये का इनाम भी देने की घोषणा की है और जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखने की बात कही है.

पुलिस के अनुसार मुठभेड. में घायल सात पुलिसकर्मियों का कानपुर के एक निजी अस्पताल में चल रहा है. जहां सभी की हालत स्थिर बतायी जा रही है. लखनऊ पुलिस ने शुक्रवार शाम को विकास दुबे के कृष्णानगर स्थित मकान पर भी छापा मारा था लेकिन वहां दुबे नही मिला.

इसे भी पढ़ें- चीनी घुसपैठ पर लद्दाखवासियों की बात नजरअंदाज न करे सरकार: राहुल गांधी

क्या है मामला

गौरतलब है कि गुरुवार देर रात कानपुर के चौबेपुर थाना क्षेत्र के गांव बिकरू निवासी कुख्यात अपराधी विकास दुबे को उसके गांव पकड़ने पहुंची पुलिस टीम पर हमला कर दिया गया था. इस हमले में एक क्षेत्राधिकारी, एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गये. मुठभेड़ में पांच पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक आम नागरिक घायल है.

पहली मुठभेड़ में अपराधी पुलिसकर्मियों के हथियार भी छीन ले गये, जिनमें एके-47 रायफल, एक इंसास रायफल, एक ग्लाक पिस्टल और दो नाइन एमएम पिस्टल शामिल हैं. इस मुठभेड़ के कुछ घंटे बाद हुई दूसरी पुलिस मुठभेड़ में पुलिस ने दो अपराधियों को मार गिराया था और उनके पास से लूटी गयी एक पिस्टल भी बरामद की थी.

घटना के बाद शुक्रवार शाम कानपुर पहुंचे प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चौबेपुर थानाक्षेत्र में अपराधियों के साथ मुठभेड़ में शहीद हुए पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि दी थी. इस दौरान उन्होंने कहा था कि कि जवानों की शहादत व्यर्थ नहीं जाएगी और घटना के लिए जिम्मेदार किसी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा. योगी ने शहीदों के परिवारों को एक-एक करोड़ रुपये की आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने का भी एलान किया था.

इसे भी पढ़ें- Sawan 2020: 4 अगस्त तक शिवालयों में जलाभिषेक नहीं, कांवर यात्रा पर भी पाबंदी

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: