न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पंचायत सचिव परीक्षा में JSSC के उत्तर कुंजी में कई उत्तर गलत

खोरठा साहित्य संस्कृति परिषद् ने की समीक्षा

663

Chhaya

Ranchi: झारखंड राज्य कर्मचारी चयन आयोग की ओर से लिये गये इंटरमीडिएट स्तरीय पंचायत सचिव परीक्षा के उत्तर कुंजी के अलग-अलग सेटों में प्रश्‍नों के उत्तर गलत हैं. इसकी समीक्षा खोरठा साहित्य संस्कृति परिषद् की ओर से की गयी. समीक्षा में खोरठा भाषा के विद्वानों पाया कि JSSC की ओर से खोरठा भाषा के लिये जो उत्तर कुंजी जारी की गयी है, उसमें कई सवालों के उत्तर गलत हैं. विद्वानों ने बताया कि सिर्फ उत्तर कुंजी ही नहीं खोरठा के प्रश्‍न पत्र में भी कई विसंगतियां पायी गयी हैं. बता दें कि JSSC की ओर से 28 जनवरी से 4 फरवरी 2018 तक पंचायत सचिव परीक्षा का आयोजन किया गया था.

इसे भी पढ़ें: JPSC: एक पेपर जांचने के लिए चाहिए 60 से अधिक टीचर, मेंस एग्जाम की कॉपी चेक करना बड़ी चुनौती

hosp3

इसके पूर्व भी हुआ ऐसा

विद्वानों ने बताया कि इसके पूर्व में भी कई बार ऐसा हो चुका है. जब खोरठा भाषा के संबधित प्रश्‍न और उत्तर कुंजी में इसके उत्तर गलत जारी किये गये हैं. इन्होंने बताया कि इसके पूर्व राजस्व कर्मचारी आयोग, जेटेट परीक्षा समेत अन्य परीक्षाओं में JSSC की ओर से गलत प्रश्‍न पूछे गये थे. वहीं इन सवालों के उत्तर भी गलत ही जारी किये जाते हैं.

इसे भी पढ़ें: राजधानी में 30 PCR, 15 हाइवे पेट्रोलिंग टीम, 100 टाइगर मोबाइल और 40 शक्ति कमांडो मिलकर भी नहीं रोक पा रहे आपराधिक घटनाएं

JSCC के अलग-अलग सेटों में गलती

परिषद् की ओर से संशोधित करने के बाद 28 जनवरी को ली गयी ‘सेट बी’ की परीक्षा में 14 प्रश्‍नों के उत्तर गलत जारी किये गये हैं. जिसमें प्रश्‍न संख्या 11, 14, 18, 28, 37, 38, 44, 61, 64, 71, 74, 92, 95, 96 के उत्तर गलत हैं. वहीं चार फरवरी को ली गयी परीक्षा में ‘सेट सी’ में प्रश्‍न संख्या 7, 8, 10, 11, 16, 65, 73 प्रश्‍नों के उत्तर गलत जारी किये गये हैं.

इसे भी पढ़ें: बीसीसीएल, सीआईएसएफ, सीबीआई, पुलिस, ट्रेड यूनियन नेता और कोयला अधिकारी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे

19 जिलों में बोली जाती है खोरठा

राज्य के 24 जिलों में से 19 जिलों में खोरठा बोली जाती है. ऐसे में खोरठा पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या भी अधिक है. अधिक विद्यार्थी खोरठा के होने के कारण इस भाषा में अधिक नौकरी का भी सृजन होगा.

इसे भी पढ़ें: राज्य प्रशासनिक सेवा के 420 पोस्ट खाली, 25 अफसरों पर गंभीर आरोप, 07 सस्पेंड, 06 पर डिपार्टमेंटल प्रोसिडिंग, 05 पर दंड अधिरोपण

संशोधित कर जारी करें रिजल्ट

छात्र नेता मनोज कुमार का कहना है कि खोरठा भाषा सबसे अधिक बोली जाती है. जेएसएसी को चाहिये की विद्वानों की राय ले कर ही प्रश्‍न पत्र और उत्तर कुंजी जारी की जानी चाहिये. JSSC की ऐसी लापरवाही से युवाओं का भविष्य खराब होगा. उत्तर कुंजी में संशोधन करके ही जेएसएससी को रिजल्ट जारी करना चाहिये.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: