JharkhandMain SliderRanchi

आय से अधिक संपति के मामले में एनोस एक्का सहित सात लोग दोषी करार, कोर्ट ने सुनाई सभी को सात-सात की सजा

  • सभी को भरना पड़ेगा 50-50 लाख का जुर्माना भी

Ranchi: पूर्व मंत्री एनोस एक्का से जुड़े आय से अधिक संपत्ति के मामले में सीबीआइ की विशेष अदालत ने मंगलवार को फैसला सुनाया. इस मामले में सीबीआइ की विशेष अदालत ने पूर्व मंत्री एनोस एक्का सहित परिवार के सभी सात सदस्यों को दोषी करार दिया और सभी को सात-सात साल की सज़ा और 50 -50 लाख का जुर्माना लगाया.

इस मामले में कोर्ट ने एनोस एक्का, उनकी पत्नी मेनन एक्का, भाई गिध्दियन एक्का, रिश्तेदार रोशन मिंज, दीपक लकड़ा, जयकांत बाड़ा और इब्राहिम एक्का दोषी करार दिया.

SIP abacus

इसे भी पढ़ें – दीपक प्रकाश को झारखंड #BJP की कमान, पार्टी अध्यक्ष नड्डा ने सौंपी जिम्मेवारी

Sanjeevani
MDLM

16 करोड़ 82 लाख रुपये की आय से अधिक संपत्ति

एनोस एक्का और उनकी पत्नी समेत उनके परिवार के सदस्यों पर लगभग 16 करोड़ 82 लाख रुपये की आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का आरोप लगा था और इस मामले में सीबीआइ के द्वारा 148 गवाह पेश किये गये थे. वहीं एनोस एक्का की तरफ से बचाव के लिए 140 गवाहों को कोर्ट में उपस्थित कराया गया था.

इसे भी पढ़ें – डिप्टी मेयर संजीव विजयवर्गीय पर पद के दुरुपयोग का आरोपः फार्म के खाते से भरी गयी टेंडर फीस

23 अगस्त 2012 को हुआ था आरोप गठन

सीबीआइ ने एनोस एक्का के अलावा उनकी पत्नी मेनन एक्का, रिश्तेदार जयकांत बाड़ा, दीपक लकड़ा, गिध्दियन एक्का, रोशन मिंज, इब्राहिम एक्का को भी आरोपित बनाया था. बता दें कि भ्रष्टाचार का मामला सामने आने पर 2008 में निगरानी ब्यूरो ने प्राथमिकी दर्ज की थी.

बाद में हाइकोर्ट के निर्देश पर 10 अगस्त 2010 को सीबीआइ द्वारा प्राथमिकी दर्ज की गयी. इस मामले में दो चार्जशीट पहली 27 जनवरी 2012 एवं दूसरी 11 दिसंबर 2012 को दायर की गयी थी. आरोप गठन 23 अगस्त 2012 को हुआ था.

एनोस पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे

एनोस एक्का पर मंत्री रहते हुए भ्रष्‍टाचार के आरोप लगाये गये हैं. इस मामले में झारखंड हाइकोर्ट के निर्देश पर सीबीआइ ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू की थी.

इसे भी पढ़ें – CM, CS, सचिव और स्पीकर के निर्देश के बाद भी 6 सालों से उसी पद पर डटे हैं JREDA प्रोजेक्ट डायरेक्टर अरविंद कुमार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button