न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इतिहास के पन्नों में सात जुलाई का दिन भारतीय सिनेमा के लिए खास

1981 : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी का जन्म

332

NW Desk : भारतीय फिल्म इतिहास में मील का पत्थर नयी दिल्ली, सात जुलाई (भाषा) भारतीय सिनेमा के इतिहास में सात जुलाई का एक खास महत्व है. दरअसल 1896 में इसी दिन फ्रांस के सिनेमैटोग्राफर ल्युमिरी भाइयों ने भारतीय सिनेमा की नींव रखी थी. इन दोनों ने इस दिन बम्बई के वाटसन होटल में छह फिल्मों का प्रदर्शन किया था. इन फिल्मों को देखने के लिए टिकट की कीमत एक रुपए रखी गई थी और उस समय के अखबारों ने इसे सदी का चमत्कार बताया था. इस कार्यक्रम को दर्शकों का अपार प्रोत्साहन मिला, जिससे प्रभावित होकर जल्द ही कलकत्ता और मद्रास में भी फिल्मों का प्रदर्शन होने लगा और भारतीय फिल्म निर्माण का रास्ता खुला.

इसे भी पढ़ें- खूंटी में पुलिस-पत्थलगड़ी समर्थकों के बीच झड़प के बाद पहली बार घाघरा पहुंचे मंत्री नीलकंठ, ग्रामीणों से कहा- यह आपकी सरकार है

सात जुलाई की तारीख पर इतिहास में दर्ज चंद और घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है

  • 1763 : मीर जाफर की बंगाल के नवाब के रूप में दोबारा ताजपोशी हुई.
  • 1799 : महाराजा रणजीत सिंह ने लाहौर पर कब्जा किया.
  • 1930 : ‘शरलॉक होल्म्स’ के लेखक सर ऑर्थर कोनन डोयले की मृत्यु.
  • 1941 : नाजियों ने यूरोपीय देश लिथुआनिया में पांच हजार यहूदियों को मौत के घाट उतारा.
  • 1948 : दामोदर घाटी निगम की स्थापना.
  • 1955 : चीन ने उत्तरी वियतनाम की मदद करने का ऐलान किया.
  • 1979 : सोवियत संघ ने पूर्वी कजाख में परमाणु परीक्षण किया.
  • 1980 : ईरान में शरिया कानून लागू हुआ.
  • 1981 : भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी का जन्म.
  • 2003 : नासा के ऑपर्च्युनिटी अंतरिक्ष यान ने मंगल ग्रह के लिए उड़ान भरी.
  • 2005 : लंदन में पांच इस्लामी चरमपंथियों ने शहर में अलग अलग जगहों पर चार बम विस्फोट किए, जिसमें 50 से ज्यादा लोगों की जान गई.
  • 2011 : हैरी पॉटर सीरीज की अंतिम फिल्म ‘हैरी पॉटर एंड द डेथली हैलोज़ पार्ट 2’ का लंदन में प्रीमियर हुआ.
  • 2013 : विंबलडन टेनिस टूर्नामेंट के फाइनल में नोवाक जोकोविच को हराकर एंडी मरे वर्ष 1936 के बाद इस खिताब पर कब्जा जमाने वाले इंग्लैंड के पहले खिलाड़ी बने.

इसे भी पढ़ें- खूंटी में पुलिस-पत्थलगड़ी समर्थकों के बीच झड़प के बाद पहली बार घाघरा पहुंचे मंत्री नीलकंठ, ग्रामीणों से कहा- यह आपकी सरकार है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: