न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड की सात औद्योगिक इकाइयों की बिसिको करेगा नीलामी

28

Ranchi: बिहार स्टेट क्रेडिट एंड इन्वेस्टमेंट कारपोरेशन लिमिटेड (बिसिको) की तरफ से झारखंड की सात औद्योगिक इकाईयों की नीलामी की जायेगी. बिसिको ने रामगढ़, गिरिडीह, रांची, देवघर और हजारीबाग में अवस्थित इन इकाईयों के लिए ‘सेल नोटिस’ निकाला है. इनमें एसोसिएटेड चैंबर ऑफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज, झारखंड के पूर्व उपाध्यक्ष विजय शाहा की इकाई भी शामिल है. रांची के रातू स्थित श्रीराम नीडल बियरिंग्स लिमिटेड की इकाई भी सेल नोटिस में है. बिसिको के प्रबंध निदेशक रविंद्र प्रसाद की ओर से जारी सेल नोटिस में कहा गया है कि राज्य वित्त निगम की नियमावली के अनुसार औद्योगिक इकाईयों को लिए गये कर्ज का भुगतान करने के लिए कई अवसर दिये गये.

क्या कहा गया है सेल नोटिस में

सेल नोटिस के जरिये कहा है कि 28 मार्च तक आवेदकों से संबंधित इकाईयों की बोली लगाने का अवसर दिया गया है. अधिक बोली लगानेवाले आवेदकों को इन इकाईयों को खरीदने का मौका दिया जायेगा. सभी संबंधित इकाईयों को वित्त निगम की नियमावली के अनुसार नोटिस भी भेजा जा चुका है. यह भी कहा गया है कि यदि किसी भी इकाई ने हाईकोर्ट अथवा सक्षम न्यायालय से स्टे ऑर्डर (स्थगनादेश) ले रखा है, तो बिसिको कार्यालय में उसे अवश्य जमा कराया जाये. उन्होंने कहा है कि बिहार सरकार के द्वारा पूरी इकाई को बेचने के लिए नोटिस जारी किया गया है. यह स्टेट फायनांस एक्ट 1951 की धारा 29 के प्रावधानों के अनुरूप है. इसमें ‘एज इज ह्वेयर इज बेसिस’ के आधार पर इकाईयों को कर्ज नहीं चुका पाने की स्थिति में बेचा जा रहा है.

झारखंड की औद्योगिक इकाईयां, जिन्हें बेचा जायेगा

इकाई का नामबकाया राशिइकाई का प्रकार
अक्षय रोल मिल्स प्राइवेट लिमिटेड, रामगढ़ औद्योगिक क्षेत्र, रामगढ़57.50 करोड़स्टील रोल
अक्षय टेक्नोलाजीज प्रा लिमिटेड रामगढ़ औद्योगिक क्षेत्र, रामगढ़43.55 करोड़इगनोट
नरसिंह सीमेंट लिमिटेड, गिरिडीह69.18 करोड़सीमेंट
नरसिंह स्ट्रोमेक प्रा. ली. गिरिडीह48.78 करोड़फैब्रिकेशन
निरंजन टेक्सटाइल्स लि. देवघर24.69 करोड़कपड़ा
श्रीराम बियरिंग्स लि. रातू, रांची8.54 करोड़बियरिंग्स
सिसमित संगिता मैग्नेटिक प्रा. लि.पलामू2.45 करोड़कास्टिंग्स

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: