JamshedpurJharkhandSaraikela

सरायकेला : घर के बरामदे में सोये ससुर और दामाद को कार ने कुचला, दर्दनाक मौत, गांव में पसरा मातम

Jamsheddpur : सरायकेला-खरसावां जिले में सड़क दुर्घटनाओं में मौत का सिलसिला जारी है. ताजा घटना राजनगर के नेटो गांव में देर रात घटी. घर के बरामदे में जमीन पर सोये भोला मुखी और उसके दामाद रेंगटा मुखी को एक कार ने बैक करने के दौरान बेरहमी से कुचल दिया. इस दुर्घटना में ससुर और दामाद की मौके पर ही मौत हो गई.

चीख-पुखार सुनकर जाग गये थे घरवाले

इससे पहले कार ( संख्या-जेएच01सीटी-1108) जब रेंगटा मुखी और उसके ससुर के शरीर पर चढी, तो दोनों के मुंह से चीख-पुखार निकली. इससे घरवाले जाग गये थे. फिर भी जबतक वे बरामदे में पहुंचते दोनों की कार की चपटे में आकर मौत हो चुकी थी. इस बीच रेंगटा की पत्नी बसंती मुखी समेत परिवार के अन्य लोगों ने शोर मचाया. उसके बाद मौके पर पहुंचे पास-पड़ोस के लोगों की मदद से कार चालक को पकड़ लिया गया. इधर, घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने कार ने कार चालक को हिरासत में ले लिया, जबकि घटना के शिकार भोला मुखी और उसके दामाद को राजनगर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया. जहां जांचकर दोनों को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. फिलहाल पुलिस दोनों शव को कब्जे में लेते हुये पोस्टमार्टम के लिए सरायकेला भेज दिया है.

Catalyst IAS
SIP abacus

पीड़ित परिवार के घर पसरा मातम

Sanjeevani
MDLM

इस घटना से पीड़ित परिवार समेत पूरे गांव में मातम का माहौल है. घटना के शिकार रेंगटा मुखी के तीन बच्चे हैं. इसमें उसकी 10 वर्षीय बेटी के अलावा एक 8 साल की बेटी और एक 6 साल का बेटा शामिल है. उन सबों का रो-रोकर बुरा हाल है. यहां बता दें कि सरायकेला जिले में सड़क दुर्घटनाओं में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है. इसमें आये दिन लोगों की जान भी जा रही है. वहीं, कई घायल हो रहे हैं. इस बीच दुर्घटनाओं पर रोक लगाने के तमाम प्रशासनिक उपाय विफल साबित हो रहे हैं.

ये भी पढ़ें- History of Jamshedpur : इतिहास के पन्नों पर जमशेदपुर – टिस्को की स्थापना से पड़ी लौहनगरी की बुनियाद, पंडित नेहरु से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तक आ चुके हैं शहर

Related Articles

Back to top button